तेजप्रताप की शादी की बढ़ी रौनक, व्‍हीलचेयर पर घर पहुंचते रो पड़े लालू

पटना। तमाम अटकलों और प्रशासनिक अड़चनों के बीच राजद प्रमुख लालू प्रसाद आखिरकार अपने पुत्र तेजप्रताप की शादी में भाग लेने के लिए गुरुवार शाम पटना पहुंच गए। उन्हें तीन दिन का पेरोल मिला है। लालू 138 दिनों बाद घर पहुंचे हैं। घर पहुंचते ही लालू प्रसाद यादव के खुशी के आंसू निकल पड़े। वे रविवार तक पटना में परिवार के साथ रहेंगे और 14 मई को रांची वापस हो जाएंगे। 12 मई को उनके बड़े बेटे तेजप्रताप यादव का शादी समारोह है। इस दौरान लालू किसी तरह की राजनीतिक बयानबाजी नहीं करेंगे।तेजप्रताप की शादी की बढ़ी रौनक, व्‍हीलचेयर पर घर पहुंचते रो पड़े लालू

पटना एयरपोर्ट पर लालू कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों के भारी हुजूम के बीच लालू प्रसाद की अगवानी के लिए पुत्र तेजस्वी यादव तथा तेज प्रताप यादव सहित कई नेता पहुंचे हुए थे। धक्का-मुक्की के बीच लालू शाम सात बजे व्हीलचेयर पर बाहर निकले तो भीड़ ने नारेबाजी तेज कर दी। लालू के साथ उनके करीबी विधायक भोला यादव समेत दो सदस्यीय डाक्टरों की टीम भी पहुंची है।

बयान पर पाबंदी

लालू को पेरोल पर तीन दिनों के लिए सशर्त रिहा किया गया है। इस दौरान उन्हें सिर्फ पटना में रहना होगा और किसी तरह की बयानबाजी से बचना होगा। वे सिर्फ वैवाहिक कार्यक्रम में शामिल होंगे। उसके अलावा किसी अन्य कार्यक्रम या जगह पर नहीं जाएंगे। किसी राजनीतिक या सामाजिक मुद्दे पर मीडिया से बात भी नहीं करना है। शादी के अलावा किसी प्रकार का बयान सोशल, प्रिंट या इलेक्ट्रानिक मीडिया में जारी नहीं करेंगे। शर्तों के उल्लंघन पर पेरोल को रद कर उन्हें तत्काल वापस बुलाया जा सकता है। उन्हें रिम्स के चिकित्सकों की सलाह के अनुपालन की भी हिदायत दी गई है।

व्हीलचेयर का सहारा

कई तरह की बीमारियों से घिरे लालू काफी कमजोर नजर आ रहे थे। इसलिए उन्हें एयरपोर्ट से गाड़ी तक आने के लिए व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ा। हालांकि पटना रवाना होने से पहले रांची के डॉक्टरों ने उनकी सेहत ठीक बताई थी। बीपी 130/70 और शुगर फास्टिंग में 137 दर्ज किया गया, जो बुधवार की तुलना में 25 अधिक है। बुधवार को उनका शुगर फास्टिंग में 112 था। गुरुवार सुबह भी स्वास्थ्य रिपोर्ट की समीक्षा की गई। सुधार को देखते हुए उन्हें यात्रा के लिए फिट बताया गया।

138 दिन बाद लौटे हैं घर

रांची की सीबीआई अदालत में चारा घोटाले के देवघर कोषागार से निकासी मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद पिछले साल 23 दिसंबर से लालू रांची जेल में बंद हैं। इसमें छह जनवरी 2018 को लालू को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई थी। तबीयत बिगडऩे पर लालू को 17 मार्च को रिम्स में भर्ती किया गया था। सुधार नहीं होने पर 28 मार्च को एम्स रेफर कर दिया गया था। एम्स से उन्हें 30 अप्रैल को डिस्चार्ज कर दोबारा रिम्स भेज दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मध्यप्रदेश चुनाव : कल भाजपा आयोजित करेगी ‘कार्यकर्ता महाकुंभ’, PM मोदी समेत कई बड़े नेता होंगे शामिल

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव तेजी से नजदीक आ