भय्यूजी महाराज के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, बेटी कुहू देंगी मुखाग्नि

- in Mainslide, राष्ट्रीय

आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज का शव आज इंदौर में उनके घर पहुंचा. उनकी मौत से पूरा परिवार शोक में डूबा है. भय्यूजी महाराज ने बुधवार को खुद को गोली मारकर खुदकुशी की थी. अभी पता नहीं चल सका है कि भय्यूजी ने ये कदम किन हालातों में उठाया लेकिन ऐसा बताया जा रहा है कि पारिवारिक कलह के चलते उन्होंने ये कदम उठाया. एक सुसाइड नोट भी सामने आया, जिसमें लिखा था कि वो काफ़ी तनाव में थे. भय्यूजी महाराज धर्मगुरु होने से साथ राजनीतिक गलियारे में भी गहरी पैठ रखते थे. भय्यूजी महाराज का बुधवार दोपहर बाद अंतिम संस्कार होगा. उनके पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए इंदौर के सूर्योदय आश्रम में रखा गया है. भय्यूजी को मुखाग्नि उनकी बेटी कुहू देगी.

आपको बता दें कि भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को खंडवा रोड स्थित आवास पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या की थी. इंदौर के बॉम्बे अस्पताल में उनकी मौत की पुष्टि की थी. बताया जा रहा है कि भय्यूजी महाराज ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से अपने सिर में गोली मारी. गोली की आवाज सुनने के बाद उनके आवास में मौजूद लोग उनके कमरे की ओर दौड़े फिर घायल अवस्था में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया. भय्यूजी महाराज के मौत के बाद पुलिस को उनका एक सुसाइट नोट मिला. सुसाइड नोट में लिखी चंद लाइनों से ही भय्यूजी महाराज यह बता गए कि वह कितने तनाव में थे.

शरद पवार की राजनीति को शिवसेना ने बताया खतरनाक

पुलिस को मिले भय्यूजी महाराज के सुसाइट नोट में लिखा गया, ‘पारिवारिक जिम्मेदारियां को संभालने के लिए किसी को वहां होना चाहिए. मैं बेहद परेशानी में हूं और तनाव के साथ जा रहा हूं.’ मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह ने अभी हाल ही में उनको राज्यमंत्री का दर्जा दिया था. भय्यूजी महाराज के मौत पर शिवराज सिंह ने गहरा शोक जताया था. सीएम शिवराज सिंह के अलावा बीजेपी और कांग्रेसी नेताओं ने भी उनके मौत पर शोक जताया.

भय्यूजी महाराज उस समय चर्चा में आये थे जब अन्ना आंदोलन के समय उन्होंने सरकार के साथ बातचीत में बड़ी भूमिका निभाई थी. उस आंदोलन के समय शरद यादव ने भय्यू जी महाराज की आलोचना भी की थी. भय्यू जी महाराज के भक्तों में कई नामी-गिरामी की हस्तियां शामिल थीं. वह पहले फैशन डिजाइनर थे बाद में अध्यात्म की ओर मुड़ गए भय्यू महाराज को मॉडर्न और राष्ट्रीय संत माना जाता था. उन्होंने करीब 49 साल की उम्र में दूसरी शादी की थी. उन्होंने पहली पत्नी की मौत होने के बाद बेटी कुहू और मां का ख्याल रखने के लिए ही ये शादी की थी. उनकी पहली पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हो चुका है. पहली शादी से उनकी एक बेटी कुहू है, जो पुणे में रहकर पढ़ाई कर रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

नवाज और मरियम शरीफ को कोर्ट से मिली बड़ी राहत, सजा पर लगाई रोक

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को बड़ी राहत मिली