जाने कब है शीतला सप्तमी और अष्टमी, इसमें बासी भोजन का लगता है भोग

चैत्र मास की कृष्णपक्ष की सप्तमी को शीतला सप्तमी और चैत्र मास की कृष्णपक्ष की अष्टमी को शीतला अष्टमी मनाई जाती है। यह त्योहार होली के बाद मनाया जाता है। कई जगह इसे बासौड़ा भी कहते हैं। यह होली के आठ दिन बाद मनाया जाता है। इस त्योहार में शीतला माता की पूजा की जाती है और उ्न्हें बासी खाने का भोग लगाया जाता है। इसके लिए सप्तमी की रात को बासी भोजन बनाया जाता है और सुबह शीतला माता की पूजा कर प्रसाद के रुप में खाया जाता है। मान्यता है कि माता शीतला का व्रत रखने से बीमारियां दूर होती हैं। इस बार शीतला सप्तमी 15 मार्च को शुरू होगी। वहीं शीतला अष्टमी 16 मार्च को है। शीतला अष्टमी पर पूजा का मुहूर्त -सुबह 6:46 बजे से शाम 06:48 बजे तक है।

शीतला अष्टमी 2020 सोमवार 16 मार्च 2020
शीतला अष्टमी पूजा मुहूर्त -सुबह 6:46 बजे से शाम 06:48 बजे तक
शीतला सप्तमी रविवार 15 मार्च 2020
शीतला अष्टमी 2020 16 मार्च 03:19 बजे से
शीतला अष्टमी 2020  17 मार्च 02:59 बजे तक

इस दिन व्रत रखने और पूजा करने से व्यक्ति को चेचक, खसरा जैसे रोगों का प्रकोप नहीं रहता। मान्यता के अनुसार शीतला माता को ठंडी चीजें बहुत प्रिय होती है। शीतला सप्तमी और अष्टमी को ठंडी चीजों का भोग लगाया जाता है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − 12 =

Back to top button