काफी जिद करने के बाद इरफान ने इसे स्वीकार कर लिया. शाहरुख ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वह नहीं चाहते थे कि इलाज के दौरान इरफान को परदेस में किसी तरह की कोई दिक्कत ना आए और उन्हें लंदन में भी घर जैसा माहौल मिले. इरफान शाहरुख को अपने बहुत करीबी मानते हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अब इरफान की सेहत में पहले से ज्यादा सुधार है और वो साल के अंत तक भारत लौट आएंगे.