अभय चौटाला ने बताया कर्नाटक की घटना ने तीसरे मोर्चे को दिया बल

कुरुक्षेत्र। इनेलो नेता व हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा ने कर्नाटक में लोकतंत्र का गला घोंटने का काम किया है। हालांकि इसकी शुरुआत पहले कांग्रेस ने की थी, लेकिन जब खुद पर बीती तो वह विरोध जता रही है। कर्नाटक चुनाव के बाद स्पष्ट है कि देश में अब तीसरे मोर्चे की आवश्यकता है। इसकी शुरुआत इनेलो-बसपा के गठबंधन से हो चुकी है। तीसरे मोर्चे का नेतृत्व बसपा सुप्रीमो मायावती करेंगी।अभय चौटाला ने बताया कर्नाटक की घटना ने तीसरे मोर्चे को दिया बल

अभय चौटाला शुक्रवार को नई अनाज मंडी में एसवाईएल और दादूपुर-नलवी नहर को लेकर जारी जेल भरो आंदोलन से पूर्व रैली को संबोधित कर रहे थे। रैली के बाद खुद अभय चौटाला सहित इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा, बसपा के प्रदेशाध्यक्ष प्रकाश भारती के अलावा पार्टी के सैकड़ों नेताओं व कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी। पुलिस ने सभी को अनाज मंडी गेट से ही गिरफ्तार कर बसों में बैठाकर पुलिस लाइन ले जाकर छोड़ दिया।

अभय चौटाला ने कहा कि एसवाईएल का पानी हरियाणा में लाना तो दूर की बात रही भाजपा सरकार ने इनेलो द्वारा शुरू की गई दादूपुर नलवी नहर योजना को भी बंद कर दिया। उन्होंने कहा कि एसवाईएल का पानी हरियाणा में लाने, दादूपुर नलवी नहर परियोजना दोबारा से शुरू करने, स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने तथा गरीब किसान, मजदूर व छोटे व्यापारियों के कर्जे माफ करने की मांग को लेकर गठबंधन का जेल भरो आंदोलन जारी रहेगा।

चौटाला ने कहा कि 19 महीने पहले सुप्रीम कोर्ट ने एसवाईएल के मामले को लेकर हरियाणा के पक्ष में फैसला दिया था। इनेलो ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिलकर कहा था कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदर से मिलकर हरियाणा का पक्ष रखें, लेकिन 19 महीने बाद भी वह प्रधानमंत्री से समय नहीं ले सके। उन्होंने एसवाईएल का पानी हरियाणा में न आने के लिए कांग्रेस व भाजपा को समान रूप से जिम्मेवार ठहराते हुए कहा कि दोनों दलों को प्रदेश की जनता के हितों से कोई लेना-देना नहीं है।

मुद्दों से भटका रही भाजपा सरकार

अभय चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार गीता, गाय और सरस्वती की आड़ में जनता का ध्यान बांटने में लगी हुई है। जो काम सरकार को करने चाहिए वह नहीं कर रही। रैली को पूर्व कृषिमंत्री जसविंद्र सिंह संधू, रामपाल माजरा और प्रकाश भारती ने भी संबोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के