जस्टिन ट्रुडो ने महिला पत्रकार को ‘जबर्दस्ती छूने’ के आरोपों को किया खारिज

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो ने यौन दुर्व्यवहार के आरोपों पर पहली बार जवाब दिया है. उन पर यह आरोप 2 दशक पहले लगे थे. उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसी कोई ‘नकारात्मक बातचीत’ याद नहीं है. आरोप था कि साल 2000 में एक म्यूजिक फेस्टिवल के दौरान ट्रुडो ने एक पत्रकार को जबर्दस्ती छुआ था. कनाडा के नेशनल डे पर पत्रकारों से बात कर रहे ट्रुडो ने कहा, ‘उस दिन मेरा दिन अच्छा था. मुझे कोई नकारात्मक बात याद नहीं है.’जस्टिन ट्रुडो ने महिला पत्रकार को 'जबर्दस्ती छूने' के आरोपों को किया खारिज

ट्रुडो ने कहा, “मुझे क्रेस्टन का वह दिन अच्छी तरह याद है, यहां एवलांच से सुरक्षा के लिए एवलांच फाउंडेशन से जुड़ा एक कार्यक्रम था.” साल 1998 में एक एवलांच में अपने भाई माइकल की मौत होने के बाद ट्रुडो चैरिटी के कार्यक्रमों से जुड़ गए. फेस्टिवल के कुछ दिन बाद, एक संपादकीय क्रेस्टन वैली एडवांस में दिखाई दिया, जिसने उस समय 28 वर्ष के रहे ट्रूडो पर आरोप लगाया. ट्रूडो उस वक्त राजनीति में शामिल नहीं थे और उन्होंने संवाददाता से माफी मांग ली थी. अखबार ने ट्र्डो का उल्लेख करते हुए लिखा था, ‘अगर जानता कि महिला पत्रकार है, तो मैं इतना आगे नहीं बढ़ता.’

लेख में पत्रकार का नाम नहीं था और कथित घटना के बारे में और जानकारी नहीं दी थी. ब्रॉडकास्टर सीबीसी ने सोमवार को कहा कि उसने पत्रकार से संपर्क किया था, लेकिन वह नाम नहीं लेना चाहती थी और कहानी के कवरेज से जुड़े नहीं रहना चाहती थी. हाल के दिनों में आरोप फिर से सामने आए हैं, लेकिन यह पहली बार है जब प्रधानमंत्री ने सार्वजनिक रूप से इस पर टिप्पणी की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रूस से एस-400 मिसाइल की खरीद पर अमेरिका नाराज, भारत पर लगाएगा प्रतिबंध!

अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने कहा है कि भारत का