इस वजह से जिन्ना ने एक हिन्दू से लिखवाया था पाकिस्तान का पहला राष्ट्रगान

दोस्तों हमारे देश मे आम Election-2019 अब नजदीक है। लेकिन Loksabha Election-2019 से पहले 15 अगस्त यानी भारतीय स्वतंत्रता दिवस भी है। ऐसे में यह मामला चर्चा में है कि PAK के पहले PM मोहम्मद अली जिन्ना ने आखिर एक हिन्दू शायर से ही PAK का पहला राष्ट्रगान क्यों लिखवाया? चलिये आज हम आपको इसके पीछे का सच बताते हैं।

Pakistan Anthem Write Hindu-

 

दोस्तों भारतीय Independence Day 15 अगस्त को मनाया जाता है। और पाकिस्तान में उनका स्वतंत्रता दिवस 14 August को मनाया जाता है। 14 August की आधी रात थी। जब Radio लाहौर से प्रसारित राष्ट्रगान सुनकर पूरा PAK रोमांचित हो उठा था।

लेकिन बहुत ही कम लोग होंगे जिन्हें ये पता है कि PAK का वो राष्ट्रगान लाहौर के एक हिन्दू शायर ने लिखा था। उनका नाम था जगन नाथ आज़ाद। जिन्हें बाद में India की शरण लेनी पड़ी। PAK में कुछ सियासी लोग एक हिन्दू द्वारा लिखे गीत को PAK के राष्ट्रगान नहीं बनाना चाहते थे और बाद में जिन्ना (1st PM, PAK) की मौत के साथ वो तराना बदल दिया गया।

जानिए जिन्ना ने हिन्दू शायर से ही क्यों लिखवाया था राष्ट्रगान

दोस्तों असल में मोहम्मद अली जिन्ना (PAK, PM) ने भले ही मुसलमानों के लिए एक अलग देश हासिल कर लिया था, लेकिन वह पूरी दुनिया को ये दिखाना चाहते थे कि वह बेहद Secular हैं। और इसीलिए उन्होंने PAK को न केवल एक सेक्युलर राष्ट्र घोषित किया बल्कि PAK के राष्ट्रगान को एक हिंदू से लिखवाना तय किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

दोस्तों के सामने दुल्हन ने रख दी ऐसी शर्त, रह गए दंग!

अपने दोस्त की शादी के लिए हर कोई