यह सच है कि नरेंद्र मोदी ऐप में कैमरा सहित 22 फीचर्स की मांगी जाती है एक्सेस

- in गैजेट

बीजेपी और पीएम के डिजिटल छवि को पेश करने वाले नमो ऐप को लेकर राजनीतिक विवाद चल पड़ा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने डेटा सुरक्षा को लेकर हमला करते हुए कहा कि इस ऐप से लोगों की गोपनीय जानकारी बिना उनकी मर्जी के ‘तीसरे पक्ष’ को पहुंच रही है. तो पीएमओ ने साफ किया कि नरेंद्र मोदी ऐप एकदम अलग किस्म का ऐप है, जो किसी भी यूजर को ‘गेस्ट मोड’ में आने की परमिशन भी देता है. लेकिन यह सच है कि इस ऐप के द्वारा लोगों के कैमरे, ऑडियो, लोकेशन सहित 22 प्रकार के एक्सेस मांगे जाते हैं.

यह सच है कि नरेंद्र मोदी ऐप में कैमरा सहित 22 फीचर्स की मांगी जाती है एक्सेसइंडियन एक्सप्रेस की एक खबर में यह दावा किया गया है. इस खबर के अनुसार नमो ऐप की तुलना में अन्य सरकारी ऐप में कम एक्सेस मांगी जाती है. खुद प्रधानमंत्री कार्यालय के पीएमओ इंडिया ऐप से 14 तरह के एक्सेस मांगे जाते हैं. इसी तरह इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी मंत्रालय के सिटिजन-इंगेजमेंट ऐप, MyGov ऐप के लिए सिर्फ नौ डेटा पॉइंट के लिए एक्सेस मांगे जाते हैं.

अगर निजी क्षेत्र की तरफ गौर करें तो लोकप्रिय ई-कॉमर्स साइट अमेजॉन इंडिया ऐप के लिए 17 तरह के एक्सेस देने की जरूरत पड़ती है. पेटीएम के लिए 27 तरह के एक्सेस देने की जरूरत होती है.

नमो ऐप के द्वारा जनता को बीजेपी सरकार की उपलब्ध्‍िायों के बारे में लगातार जानकारी दी जाती है और इसके माध्यम से पीएम के ‘मन की बात’ भी सुनी जाती है. पीएमओ ने यह स्वीकार किया था, ‘लोगों को बेहतर यूजर एक्सपीरियंस के लिए कुछ जानकारियां तीसरे पक्ष को शेयर की जाती है. लेकिन यह लोगों की सहमति से होता है.’ इनमें नाम, ई-मेल, मोबाइल नंबर, डिवाइस के बारे में जानकारी, लोकेशन और नेटवर्क करियर की जानकारी शामिल है.

हालांकि ऐप की पॉलिसी में यह कहा गया था, ‘आपकी व्यक्तिगत जानकारी और कॉन्टैक्ट का विवरण गोपनीय रहेगा और इसका इस्तेमाल आपसे संवाद के अलावा और किसी कार्य के लिए नहीं किया जाएगा.’

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फ्रांस के एक हैकर के ट्वीट पर आधारित खबर शेयर की थी. एलियट एल्डरसन नाम के इस हैकर ने अपने ट्वीट में दावा किया है कि नरेंद्र मोदी ऐप डाउनलोड करने वाले लोगों की व्यक्तिगत जानकारी किसी तीसरी पार्टी के साथ साझा की गई है. इस पर पीएमओ की तरफ से कहा गया कि नरेंद्र मोदी ऐप एकदम अलग किस्म का ऐप है, जो किसी भी यूजर को ‘गेस्ट मोड’ में आने की परमिशन भी देता है. यानी कोई भी व्यक्ति इस ऐप पर एक मेहमान की तरह भी आ सकता है. ऐसे में ऐप के इस्तेमाल पर किसी प्रकार की अनुमति या डेटा देने की जरूरत नहीं होती है.पीएमओ की तरफ से ये दलील भी दी गई कि मीडिया हाउस भी अपने ऐप के लिए थर्ड पार्टी सर्विस का इस्तेमाल करते हैं. ताकि वो अपने पाठक तक अच्छे से खबरें पहुंचा सकें.

You may also like

10,000 रुपये से भी कम कीमत में इस भारतीय कंपनी ने लॉन्च किया अपना लैपटॉप

नई दिल्ली। भारतीय निर्माता कंपनी RDP ने अपना सबसे