तेजी से फैल रही है ये जानलेवा बिमारी, अगर ये लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से करें संपर्क

- in हेल्थ

कैंसर के लक्षण: अक्सर लोग सेहत को लेकर लापरवाही बरतते हैं, ऐसे में वो किसी बड़ी बिमारी के शिकार हो जाते हैं, जिससे उनका पूरा जीवन फिर परेशानी से ही गुजरना पड़ता है। बता दें कि बीमारियां कभी भी किसी भी इंसान को हो सकती है, लेकिन थोड़ी सी समझदारी से आप खुद की बेहतर केअर कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं कि आखिर कौन सी बिमारी देश में आग की तरफ फैल रही है?

आजकल लोग छोटी छोटी बातों को नजरअंदाज कर देते हैं, जैसे पेट में दर्द होना या फिर कब्ज की समस्या, जिसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न हीं करना चाहिए। आपको बता दें कि बॉडी में में कई तरह के परिवर्तन कैंसर की तरफ इशारा करते हैं। एक रिसर्च में यह बात साफ हो चुकी हैं कि भारत में हर साल कैंसर से पीड़ित होने वालो की संख्या बढ़ती जा रही है।

बता दें कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ केंसर ने इस बात का खुलासा किया कि भारत में लगभग 25 करोड़ लोग कैंसर के साथ लाइफ बिता रहे हैं, जोकि हेल्थ के नजरिये से बिल्कुल भी ठीक नहीं है। वहीं, दूसरी तरफ इस विशेषज्ञों का यह कहना है कि अगर इसका समय से पता लग जाए तो ईलाज संभव है। तो आइये जानते हैं कि कैंसर के क्या क्या लक्षण हो सकते हैं?

कैंसर के लक्षण
1.कब्ज का रहना

बता दें कि अगर आपको कब्ज की समस्या है, तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि ये कोलोन कैंसर की वजह से लोगों में होती है। इसलिए तुरंत चेकअप कराएं।

2.पेट दर्द और सूजन

जी हां, अगर आपको पेट में अक्सर दर्द या सूजन है, तो आपको डॉक्टर से कैंसर की जांच करानी चाहिए। क्योंकि ये लीवर कैंसर के लक्षण है। रिसर्च में यह बात सामने आई है कि ज्यादातर लोगों के पेट में दर्द कैंसर की वजह से होती है।

3.वजन का गिरना

वजन का गिरना किसी भी नजरिये से ठीक नहीं होता है। लेकिन अगर बिना किसी वजह से आपका वजन कम हो जाए तो तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए। बता दें कि पेट या फेफड़ो में होने वाले कैंसर की वजह से ऐसा होता है। साथ ही आपको भूख भी नहीं लगती है।

कैंसर के पांच बडे लक्षण

1- पेशाब और शौच के समय आने वाला खून।

2- खून की कमी जिससे एनीमिया हो जाता है, थकान और कमजोरी महसूस करना, तेज बुखार आना और बुखार का ठीक न होना।

3- खांसी के दौरान खून का आना, लंबे समय तक कफ आना, कफ के साथ म्यूकस आना।

4- स्तन में गांठ, माहवारी के दौरान अधिक स्राव होना।

5- कुछ निगलने में दिक्कत होना, गले में किसी प्रकार का गांठ होना, शरीर के किसी भी भाग में गांठ या सूजन होना।

प्रमुख कैंसर के लक्षण

स्तन कैंसर के लक्षण:
अधिक प्रसव व शिशु को स्तनपान न कराने से स्‍तन कैंसर होता है। डिंबग्रंथि (ओवरी) से उत्सर्जित हार्मोन भी इसको पैदा करते हैं।

गर्भाशय का कैंसर के लक्षण :
छोटी उम्र में विवाह, अधिक प्रसव, संसर्ग के दौरान रोग, प्रसव के दौरान गर्भाशय में किसी प्रकार का घाव होना और वह ठीक होने से पहले गर्भधारण हो जाए तो 40 की उम्र के बाद गर्भाशय का कैंसर होने का खतरा रहता है। मीनोपॉज के बाद रक्तस्राव होना, और दुर्गंध आना, पैरों व कमर में दर्द रहना इसके लक्षण हैं।

रक्त कैंसर (ल्यूकेमिआ) के लक्षण :
एक्सरे और विकिरण प्रणाली से किरणें यदि शरीर के अन्दर प्रवेश कर जाएं तो अस्थियों को प्रभावित करती हैं, जिससे उसके अन्दर खून के सेल्स भी प्रभावित होते हैं। मुख से खून निकलना, जोड़ों व हडि्डयों में दर्द, बुखारा का लगातार कई दिनों तक बना रहना, डायरिया होना, प्लीहा व लसिका ग्रंथियों के आकार में वृद्धि होना, सांस लेने में दिक्कत होना इसके प्रमुख लक्षण हैं।

मुख का कैंसर के लक्षण:
तंबाकू सेवन मुख व गले के कैंसर का मुख्य कारण है। मुख के भीतर कोई गांठ, घाव या पित्त बन जाना, मुंह में सफेद दाग, लार टपकना, बदबू आना, मुंह खोलने, बोलने व निगलने में दिक्कत होना इसके लक्षण हैं।

लंग कैंसर के लक्षण:
हल्की निरंतर खांसी आना, खांसी के साथ खून आना, आवाज में बदलाव आना, सांस लेने में दिक्कत होना लंग कैंसर के लक्षण हैं।

आमाशय का कैंसर के लक्षण :
पेट में दर्द, भूख बहुत कम आना, कभी-कभी खून की उल्टी होना, खून की कमी। पतले दस्त, शौच के समय केवल खून निकलना, आंतों में गांठ की वजह से शौच न होना आमाशय का कैंसर के लक्षण हैं।

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण :
इसके फैलने के बाद रक्त-सामान या मलिन योनिक स्राव उत्पन्न करता है जो कि संभोग या असामान्य रक्त स्राव के बाद नजर आता है। सर्वाइकल कैंसर की प्रारंभिक अवस्थाएं पीडा, भूख की कमी, वजन का गिरना और अनीमिया उत्पन्न होना सर्वाइकल कैंसर के लक्षण हैं।

ब्रेन कैंसर के लक्षण :
ब्रेन कैंसर में मस्तिष्क या स्पाइनल कॉर्ड में गांठ होती है जिससे चक्कार आना, उल्टी होना, भूलना, सांस लेने में दिक्कत होना ब्रेन कैंसर के लक्षण हैं।

You may also like

डेंगू से उबरने में यह सब्जी करती है रामबाण का काम

बदलते मौसम और पनपते मच्छरों की वजह से