इंदौर के टि्वंकल डांगरे केस की गुत्थी सुलझने के आसार

- in मध्यप्रदेश, राज्य

इंदौर। शहर के चर्चित कांग्रेस नेत्री टि्वंकल डांगरे मिसिंग केस की गुत्थी 32 माह बाद सुलझने के आसार बने हैं। केस में संदिग्ध मानें गए 5 लोगों का बीईओएस (ब्रेन इलेक्ट्रिकल ऑसिलेशन सिग्नेचर) टेस्ट करवाया गया था। उनसे दो सौ सवाल किए गए थे। अब उन्हीं पांचों की टेस्ट रिपोर्ट एक सप्ताह के बाद पुलिस के हाथ आ जाएगी। पुलिस अफसरों का मानना है कि टेस्ट रिपोर्ट के बाद इस रहस्य से पर्दा उठने की उम्मीद है।इंदौर के टि्वंकल डांगरे केस की गुत्थी सुलझने के आसार

बाणगंगा के फ्रीगंज में रहने वाली कांग्रेस नेत्री टि्वंकल डांगरे 16 अक्टूबर 2016 को रहस्यमय ढंग से लापता हुई थी। 18 अक्टूबर को परिजन ने बाणगंगा थाने में उसकी गुमशुदगी दर्ज करवाई। उस दिन से लेकर आज तक उसका पता नहीं चला है। टि्वंकल डांगरे की मां व पिता संजय ने उसे तलाशने के लिए काफी प्रयास किए। मां ने जगह-जगह प्रदर्शन किए। भूख हड़ताल पर भी बैठी। उन्होंने बेटी के लापता होने के पीछे बीजेपी नेता जगदीश करोसिया और उनके बेटे विजय व अजय का हाथ होना बताया है। वहीं, जगदीश ने खुद टि्वंकल के गायब होने में उसके माता-पिता पर शक जताया। टि्वंकल के परिजन ने कोर्ट में केस लगाया।

कोर्ट की अनुमति के बाद पुलिस ने जगदीश, अजय, विजय, संजय और रीटा का अहमदाबाद की लेब में बीईओएस टेस्ट करवाया। टेस्ट के दौरान करोसिया से 50 और अन्य चारों से डेढ़ सौ से ज्यादा सवाल किए गए। पांचों की रिपोर्ट एक सप्ताह में आने वाली है। अफसरों को उम्मीद है कि इन सवालों में से एक न एक जबाव में टि्वंकल के गायब होने का राज छिपा है। पुलिस रिपोर्ट मिलने के बाद केस की जांच दिशा तय कर लेगी।

राजनीति के कारण पारिवारिक रिश्तों में आई खटास

जांच में खुलासा हुआ कि टि्वंकल डागरे के पिता संजय से उसके रिश्ते अच्छे नहीं थे। डागरे पिता के खिलाफ भी शिकायत दर्ज करवा चुकी है। इसी के चलते बीजेपी नेता करोसिया ने पुलिस से संजय व रीटा का भी टेस्ट कराने की मांग की थी। शक की बुनियाद पर उनका भी टेस्ट करवाया गया। संजय व रीटा का आरोप है कि करोसिया पर बेटी के अपहरण का शक है। करोसिया का कहना है कि टि्वंकल व उसके परिवार से उनके रिश्ते अच्छे थे। राजनीति के कारण मनमुटाव हुआ इसी के चलते केस में फंसाने की साजिश रची गई। छवि खराब करने की मंशा से आरोप लगाए गए हैं। टेस्ट रिपोर्ट जल्द आने वाली है। सच सामने आ जाएगा।

अभी तक टि्वंकल का सुराग नहीं लगा है। उम्मीद है कि अब केस सुलझ जाएगा। बीईओएस टेस्ट एक सप्ताह में आ जाएगी। उसमें कई बाते सामने आएंगी। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस की जांच भी तय होगी। 

केस में अभी तक क्या हुआ

– टि्वंकल डागरे जब लापता हुई तो उसके दो दिन बाद परिजन ने थाने पर केस दर्ज करवाया।

– लापता होने के डेढ़ घंटे बाद डागरे का मोबाइल बंद हुआ। तब तक लोकेशन उसके घर के आसपास मिली।

– एक दिन बाद मोबाइल की लोकेशन बदनावर मिली।

– पुलिस ने मंगेतर अमित रील के बयान लिए। अमित ने बताया कि वह खुद घटना के दिन इंदौर आया था। फरवरी में शादी होने वाली थी।

– बदनावर, धार, झाबुआ, देवास और भोपाल सहित अन्य शहरों में पुलिस ने तलाश की। एक भी जगह नहीं लगा सुराग। ह बीजेपी नेता करोसिया सहित 50 से ज्यादा लोगों से हुई पूछताछ।

– टि्वंकल के पिता संजय ने कोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका लगाई।

– बीजेपी नेता, टि्वंकल के माता पिता सहित पांच लोगों का बीईओएस टेस्ट करवाया। प्रत्येक टेस्ट का खर्चा 64 हजार स्र्पए। 3 लाख 20 हजार स्र्पए में टेस्ट हुआ।

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अटल बिहारी वाजपेयी जी ने पार्टी हित से ऊपर देश को रखा: मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती भी पूर्व