चंदा जुटाकर भारतीय हैण्डबॉल टीम 20वीं एशियन पुरुष हैण्डबॉल चैंपियनशिप में लेगी हिस्सा

केडी सिंह बाबू स्टेडियम में आयोजित समारोह में टीम में शामिल खिलाड़ियों को दी गई शुभकामना

लखनऊ : 20वीं एशियन पुरुष हैण्डबॉल चैंपियनशिप में भारतीय हैण्डबॉल टीम का जाना इसलिए संभव हो पा रहा है क्योंकि टीम में शामिल खिलाड़ियों ने चंदा करके धनराशि एकत्र की है। खिलाड़ियों की माने हमारे लिए देश का मान-सम्मान पहले है, इसलिए हमने नाते-रिश्तेदारों व अन्य निजी साधनों से ये राशि एकत्र की है। सऊदी अरब के दम्माम में में 18 से 30 जनवरी तक हो रहे इस टूर्नामेंट में हिस्सा ले रही भारतीय टीम को रविवार को केडी सिंह बाबू स्टेडियम में आयोजित एक समारोह में ब्लू स्पोर्टस इंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड और प्रीमियर हैण्डबॉल लीग (पीएचएल) ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की शुभकामना दी। टीम का कप्तान अतल कुमार को बनाया गया है। इस दौरान हैण्डबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया (एचएफआई) के अध्यक्ष ए.जगनमोहन राव, महासचिव डा.तेजराज सिंह, कोषाध्यक्ष विनय कुमार सिंह और कार्यकारी निदेशक डा.आनन्देश्वर पाण्डेय ने टीम में चयनित खिलाड़ियों की घोषणा की। अध्यक्ष ए.जगनमोहन राव ने अपने संबोधन में कहा कि आपका एक ध्येय होना चाहिए कि आपको विपरीत हालातों में भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है।

महासचिव डा.तेजराज सिंह ने कहा कि कई तिकड़मे लगाकर भारतीय टीम की भागीदारी रोकने की कोशिश की गई लेकिन ये खिलाड़ियों का खेल के लिए जुनून है कि उन्होंने टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए चंदा करके धनराशि इकठ्ठा की। कोषाध्यक्ष विनय कुमार सिंह के अनुसार भारतीय टीम की एशियन गेम्स-2018 में आठवीं रैंक रही थी। इसके अलावा 2019 में नेपाल में हुए दक्षिण एशियाई गेम्स में भारतीय हैण्डबॉल टीम ने रजत पदक जीता था। कार्यकारी निदेशक डा.आनन्देश्वर पाण्डेय ने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि इसके विरोध में हैण्डबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया की ओर से सोमवार 17 जनवरी को सुबह 11 बजे भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) लखनऊ के क्षेत्रीय केंद्र पर सांकेतिक धरना दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि भारतीय खेल प्राधिकरण केंद्रीय खेल सचिव के आदेश से सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दाखिल करवा रहा है। इसका मतलब ये सभी आईओए अध्यक्ष नरिंदर ध्रुव बत्रा के हाथों में खेल रही है। अन्यथा जब इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ का स्पष्ट आदेश है कि साई भारतीय टीम का खेलना सुनिश्चित करे। ये केंद्रीय खेल मंत्रालय और साई के विरोध में निर्णय है। फिर भी दोनों हठधर्मिता दिखा रहे है जबकि दोनों का काम है खेलों को बढ़ावा देना और भारत का प्रतिनिधित्व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सुनिश्चित करना और पदक जीतने के लिए माहौल बनाना है। ये हाल तब है जब हमारे प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी और केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर का भी यही उद्देश्य है कि खेल को बढ़ावा दिया जाये। भारतीय टीम सोमवार को लखनऊ से फ्लाइट से टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए रवाना होगी। इस अवसर पर याचिकाकर्ता मोहित यादव के वकील श्री अखिलेश कालरा और श्री आलोक चंद्रा और हैण्डबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया के वकील आलोक सरन का टीम में शामिल खिलाड़ियों ने आभार जताया।

भारतीय टीमः- अतुल कुमार (कप्तान), रजत खटकर, रमेश, शंकर सिंह, तपस्विन रेड्डी, रविंद्र पाल सिंह सैनी, अर्जुन, शिवा प्रसाद, शुभम, विजय सिंह, अभिषेक, अंकित, ज्योतिराम भूषण शिंदे, सुमित, मोहित यादव और मिथुल। कोच: विनोद कुमार।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eleven − ten =

Back to top button