नई दिल्ली: पाकिस्तान में आम चुनाव के नतीजों पर पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए भारत ने शनिवार को उम्मीद जताई कि पाकिस्तान की नई सरकार सुरक्षित, स्थिर दक्षिण एशिया की दिशा में काम करेगी जो हिंसा और आतंकवाद से मुक्त हो. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत एक ‘समृद्ध एवं प्रगतिशील पाकिस्तान देखना चाहता है, एक ऐसा देश जिसके पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण संबंध हों.’ उन्होंने कहा कि भारत ने इस बात का स्वागत किया कि पाकिस्तान के लोगों ने आम चुनाव के माध्यम से लोकतंत्र में विश्वास जताया.

भारत को पाकिस्तान की नई सरकार से आतंकवाद मुक्त बनाने की है उम्मीद

कुमार ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि पाकिस्तान की नई सरकार सुरक्षित, स्थिर और विकसित दक्षिण एशिया के निर्माण की दिशा में काम करेगी जो आतंकवाद और हिंसा से मुक्त होगा. क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ 25 जुलाई को हुए चुनावों में 270 में से 116 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है.गौरतलब है कि चुनावों में बढ़त हासिल करने के बाद इमरान खान ने कहा था कि वह भारत के साथ संबंधों को सुधारने के लिए इच्छुक हैं और कश्मीर के ‘मुख्य मुद्दे’’ सहित सभी विवादों को वार्ता के माध्यम से सुलझाना चाहेंगे.

पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त रहे जी पार्थसारथी ने कहा, ‘वह (खान) सेना के आदमी हैं. उनसे पाकिस्तानी सेना जो करने के लिए कहेगी, वही करने की उम्मीद है. पूर्व सेना प्रमुख जनरल दीपक कपूर ने कहा कि उन्हें उम्मीद नहीं है कि खान के नेतृत्व में पाकिस्तान भारत के खिलाफ अपना छद्म युद्ध रोक देगा क्योंकि खान को पाकिस्तानी सैन्य प्रतिष्ठान ने ही खड़ा किया है. उन्होंने कहा, ‘वे छद्म युद्ध जारी रखेंगे. वे जम्मू-कश्मीर में दिक्कतें पैदा करना जारी रखेंगे. मुझे नहीं लगता कि दोनों देशों के संबंधों में कोई सुधार होगा.’

पाकिस्तान चुनाव आयोग की ओर से जारी किए गए अंतिम नतीजों के मुताबिक इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) आम चुनावों में 116 सीटें हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. नेशनल असेंबली की कुल 270 सीटों पर चुनाव हुए थे. 25 जुलाई को हुए मतदान के बाद वोटों की धीमी गिनती और चुनावों में धांधली के आरोपों के बीच आयोग ने अंतिम नतीजों का ऐलान किया. चुनाव आयोग को वोटों की गिनती कराने में दो दिन से ज्यादा का वक्त लग गया.