मानूसन सत्र में संसद ने बीते दो दशक में बनाया सबसे ज्यादा काम करने का रिकार्ड

नई दिल्ली । सियासी संग्राम में सत्र धुूलने की आशंका को गलत साबित करते हुए संसद के दोनों सदनों ने मानूसन सत्र को कामकाज की दृष्टि से यादगार बना दिया। लोकसभा ने करीब दो दशक के पुराने रिकार्ड को पीछे छोड़ते हुए मानसून सत्र में सबसे ज्यादा विधायी कामकाज की मिसाल बनाई है। 

लोकसभा ने जहां अपने तय समय से भी अधिक 118 फीसद काम किया वहीं राज्यसभा ने भी अपने 74 प्रतिशत समय का सदुपयोग किया। दोनों सदनों ने इस संक्षिप्त सत्र के दौरान 20 बिल पारित किये इसमें एक संविधान संशोधन विधेयक समेत कई अहम बिल शामिल हैं।

वैसे सत्र के दौरान 22 बिल पेश किये गए जिसमें 21 लोकसभा में हुए। इसमें छह बिल अध्यादेश की जगह लाए गए। केवल 17 बैठकों के इस सत्र में ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने, एसी-एसटी उत्पीड़न कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने संबंधी बिल, भगोड़ा आर्थिक अपराधी विधेयक, भ्रष्टाचार संशोधन विधेयक से लेकर राष्ट्रीय खेल-कूद विश्वविद्यालय बनाने संबंधी दूरगामी महत्व के विधेयक पारित किये गए। लोकसभा में हंगामे की वजह से 8 घंटे 26 मिनट का समय बर्बाद जरूर हुआ मगर सांसदों ने 20 घंटे 43 मिनट अतिरिक्त काम कर न केवल इसकी भरपाई की बल्कि ज्यादा काम किया। 

राज्यसभा में 27 घंटे 42 मिनट हंगामे की भेंट चढ़ गए और इसमें माननीयों ने देर तक बैठकर इसमें 3 घंटे की भरपाई की। जैसाकि सभापति वेंकैया नायडू ने सत्र समापन के मौके पर कहा भी कि राज्यसभा ने पिछले बजट सत्र की तुलना में अपने समय का तीन गुना अधिक काम किया। विधायी कामकाज के हिसाब से तो बीते दो सत्रों की तुलना में अकेले इसी सत्र में राज्यसभा ने 140 फीसद ज्यादा विधायी काम किये। सभापति ने इस बेहतर कामकाज के लिए खासतौर पर राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद को भी श्रेय दिया। संसदीय शोध पर काम करने वाली संस्था पीआरएस के मुताबिक सन 2000 के बाद इतने छोटे मानसून सत्र में लोकसभा ने सबसे अधिक काम का रिकार्ड बनाया है।

विधायी कामकाज में अधिक समय लगाने के मामले में भी यह सत्र बेहतर साबित हुआ और राज्यसभा ने अपने कुल समय का 48 फीसद विधायी काम में लगाया। जबकि लोकसभा ने तो अपना 50 फीसद समय सरकारी विधायी कामकाज में लगाया। बीते कुछ सत्रों से सांसदों के लिए सबसे अहम प्रश्नकाल के संचालन में भी उल्लेखनीय सुधार आया है। 

इस सत्र में लोकसभा में प्रश्नकाल के 84 फीसद समय का उपयोग हुआ तो राज्यसभा में यह थोड़ा कम 68 फीसद रहा। मानसून सत्र में राज्यसभा के उपसभापति का चुनाव होना भी अहम रहा जिसमें बहुमत न होते हुए भी एनडीए ने जीत हासिल की और जदयू नेता हरिवंश नये उपसभापति चुने गए। मानसून सत्र इसलिए भी याद रखा जाएगा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का अविश्वास प्रस्ताव के दौरान प्रधानमंत्री से गले लगने का सबसे चर्चित सियासी प्रकरण इसी सत्र के दौरान हुआ।

Loading...

Check Also

नेशनल हेराल्ड: केंद्र ने कोर्ट को किया आश्वस्त, कहा- 22 नवंबर तक नहीं खाली करवाएंगे हाउस

नेशनल हेराल्ड: केंद्र ने कोर्ट को किया आश्वस्त, कहा- 22 नवंबर तक नहीं खाली करवाएंगे हाउस

दिल्ली हाईकोर्ट ने आज नेशनल हेराल्ड मामला की सुनवाई की। यह सुनवाई एसोसिएटिड जर्नल की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com