इन नुस्खों से पाएं बदहजमी और खट्टी डकार से जल्द ही राहत

- in जीवनशैली

भोजन करने के बाद डकार आना एक आम समस्या है। मगर खट्टी डकार आने पर कई बार दूसरों के सामने भी शर्मिंदा होना पड़ता है। बार-बार डकार आने की समस्या को बर्पिंग भी कहा जाता है, जोकि पाचन क्रिया में गड़बड़ी, पेट दर्द, गैस के कारण हो जाती है। इसके अलावा डाइजेशन के लिए जरूरी एंजाइम्स कम पड़ जाते है तो भी यह समस्या हो जाती है। आज हम आपको खट्टी डकार आने के कुछ कारण और घरेलू उपाय बताएंगे, जिनकी मदद से आप इस समस्या से कुछ मिनटों में ही छुटकारा पा सकते हैं।


 

खट्टी डकार आने के कारण
ओवरइटिंग
पेट में इंफेक्शन
बदहजमी के कारण
समय पर न खाना
सिगरेट या शराब का सेवन
टेंशन के कारण
ज्यादा मसालेदार भोजन का सेवन

PunjabKesari

खट्टी डकार के घरेलू उपाय
1. पानी पीना
अगर आपको भोजन के बार तुरंत खट्टी डकार आने लगती है तो थोड़ा-थोड़ा पानी पीएं। इससे आपको तुरंत आराम मिल जाएगा।
 

2. इलायची
खट्टी डकार से राहत पाने के लिए दिन में 3-4 बार इलायची या इसकी चाय का सेवन करें। इससे आपकी खट्टी डकार आने की समस्या दूर हो जाएगी।

PunjabKesari

3. सौंफ
अगर आपको बार-बार खाली पेट डकार आ रही है तो सौंफ का सेवन करें। इससे बार-बार डकार आने की परेशानी मिनटों में दूर हो जाएगी।
 

4. नींबू का रस
दिन में 2 बार नींबू के रस का सेवन भी खट्टी डकार से निजात दिलाने में मदद करता है। इसके अलावा आप खट्टी डकार को दूर करने के लिए ठंडे दूध का सेवन भी कर सकते हैं।
 

5. हरा धनिया
बार-बार डकार आने पर कच्चे हरे धनिया को अच्छी तरह चबाकर खाएं। इससे डकार आना जल्दी बंद हो जाएगी।

PunjabKesari

6. लौंग
मुंह में एक लौंग का टुकड़ा रखकर चूसें। कुछ देर तक इसे चूसने के बाद आपको खट्टी डकारों से राहत मिल जाएगी।
 

7. हिंग्वाष्टक चूर्ण
पेट से जुड़ी किसी भी समस्या को दूर करने के लिए हिंग्वाष्टक चूर्ण बहुत फायदेमंद है। खाने के बाद जरा से चूर्ण को पानी में मिला कर पी ले। इससे गैस, एसिडिटी, कब्ज और खट्टी डकारों की समस्या पूरी तरह खत्म हो जाएगी।

PunjabKesari

इन बातों का भी रखें ध्यान
खाना हमेशा चबाकर खाएं
मसालेदार भोजन का सेवन न करें
चुइंग गम न चबाएं
धूम्रपान और शराब से दूर रहें
खाना खाने के बाद थोड़ी देर हवा में जरूर टहलें
कार्बोनेटेड ड्रिंक्स का सेवन न करें

You may also like

किन्नर को भूल से भी कभी नहीं देना चाहिए ये एक चीजें, वरना हो जाओगे बर्बाद

शास्त्रों की अगर मानें तो किन्नर कि दुआ