Home > मनोरंजन > श्रीदेवी की याद में रामगोपाल वर्मा की भावुक चिट्ठी

श्रीदेवी की याद में रामगोपाल वर्मा की भावुक चिट्ठी

श्रीदेवी के अचानक इस दुनिया से रुखसत हो जाने से न सिर्फ उनका परिवार दुखी है, बल्कि पूरा देश इससे दुखी है। ऐसे में सब अपने-अपने तरीके से दुख की इस घड़ी में श्रीदेवी के परिवार को सांत्वना दे रहे हैं।

सोशल मीडिया पर श्रीदेवी के लिए शोक संदेश लिखे जा रहे हैं। ऐसे में डायरेक्टर रामगोपाल वर्मा ने भी श्रीदेवी को भरे मन से याद किया है। राम गोपाल वर्मा ने श्रीदेवी से अपनी पहली मुलाक़ात से लेकर तमाम अनुभव शेयर करते हुए एक चिट्ठी लिखी है। यहां आप उनकी चिट्ठी का हिंदी रूपांतरण पढ़ सकते हैं-

“मेरी यह पुरानी आदत है कि, मैं रात में कई बार सपने देखते हुए जाग जाता हूं और इस बीच अपना मोबाइल भी चेक करता रहता हूं। इसी दौरान रात को मैंने एक मैसेज पढ़ा कि श्री देवी अब हमारे बीच नहीं हैं। मुझे लगा यह कोई सपना है या फिर किसी ने कोई अफवाह उड़ाई है। यह सोच कर मैं फिर सो गया। लगभग एक घंटे के बाद फिर जब मैं जगा तो ऐसे पचासों संदेश थे, जिसमें यह बताया गया कि श्रीदेवी अब हमारे बीच नहीं हैं और उनका निधन हो गया है।”

“मुझे याद आता है जब मैं विजयवाड़ा में इंजीनियरिंग कॉलेज में था। तब मैंने पहली बार उनकी तेलुगु फ़िल्म देखी थी- ‘Padaharella Vayasu’। मैं उनकी खूबसूरती देख कर दंग रह गया। जब मैं थियेटर से निकला तो ऐसा लगा जैसे वो वास्तविक में नहीं हैं, बल्कि किसी कल्पना ने मानो मानव शरीर धारण कर लिया है। उसके बाद मैंने उनकी कई फ़िल्में देखीं। उनकी खूबसूरती और टैलेंट का गहरा असर मुझ पर पड़ा। मेरे लिए वो ऐसी ही हैं कि जैसे किसी और दुनिया से वो हमारी दुनिया में हम सबके अच्छे कामों का फल देने के लिए आई हैं।”

वह ईश्वर की एक ऐसी अनमोल रचना थीं, जिसे उन्होंने एक स्पेशल मूड में बनाया था और वो मनुष्यता के लिए ईश्वर का एक विशेष उपहार बन कर आई थीं। श्रीदेवी के साथ मेरी यात्रा तब शुरू हुई जब मैं अपनी पहली फ़िल्म ‘शिवा’ की तैयारी कर रहा था। मैं तब नागार्जुन के चेन्नई वाले दफ्तर के बगल वाली गली में जाया करता जहां उन दिनों श्रीदेवी रहा करती थीं और गेट के बाहर से ही उनके घर को घंटों देखा करता।

“मुझे यह बिल्कुल भी विश्वास नहीं होता कि सौंदर्य की यह देवी इस बेकार से घर में रहती हैं। मैं इस घर को बेकार इसलिए कह रहा हूं, क्योंकि मेरा मानना था कि ऐसा कोई भी मानव निर्मित मकान हो ही नहीं सकता जो श्रीदेवी के रहने लायक बनाया जा सके। उनके घर के बाहर खड़ा मैं उनकी एक झलक देखने के लिए आतुर रहता पर वो कभी नज़र नहीं आईं। और जब मेरी फ़िल्म ‘शिवा’ रिलीज़ हुई और एक बड़ी हिट साबित हुई तब एक फ़िल्म निर्माता मेरे पास आये कि क्या मैं श्रीदेवी के साथ एक फ़िल्म बनाना चाहूंगा? मैंने कहा आप पागल हैं क्या? मैं उनकी एक झलक देखने के लिए अपनी जान तक दे सकता हूं। हां, हम फ़िल्म बनाते हैं !”

बड़ी खबर: परिजनों को सौंपी गई फॉरेंसिक रिपोर्ट, बथटब में डूबने से हुई श्रीदेवी की मौत

उन्होंने श्रीदेवी से एक मीटिंग तय की और हम उसी घर में उनसे मिलने पहुंचे, जिसके बाहर खड़े होकर मैं घंटों उनको देखने की कोशिशें करता रहा हूं। संयोग से उस दिन बिजली चली गई थी और उनके लिविंग रूम में बैठे मोमबत्ती की रोशनी में हम उस एंजेल का इंतज़ार कर रहे थे। मेरा दिल पागलों की तरह धड़क रहा था। श्री देवी की मॉम ने बताया कि वो अपना बैग पैक कर रही हैं, क्योंकि उन्हें अभी ही मुंबई के लिए निकलना है। जब हम उनका इंतज़ार कर रहे थे और वो बैग पैक के लिए अपने घर के इस कमरे से उस कमरे तक जातीं तो बीच-बीच में हमारी तरफ देखकर देरी के लिए क्षमा-याचना करने के अंदाज़ में मुस्कुरा देतीं। हम और हमारे प्रोड्यूसर उनको एक-टक मंत्रमुग्ध देख रहे थे!

अंततः वो लिविंग रूम में आईं और हमारे पास बैठीं। उन्होंने कुछ बातें ही कहीं कि वो ज़रूर चाहेंगी कि वो मेरी फ़िल्म में काम करें और फिर वो मुंबई के लिए निकल गईं। मैं उनके जाने के बाद भी वहां बैठा रहा और उनकी मां से बात करता रहा। मेरे लिए श्रीदेवी की मॉम के लिए अपार सम्मान का भाव था कि उन्होंने श्रीदेवी को जन्म दिया है! उसके बाद मैं अपने घर पहुंचा तो ऐसा लगा जैसा मैं सातवें आसमान पर हूं। जिस अंदाज़ में श्रीदेवी मोमबत्ती की रोशनी में मेरे सामने बैठी थीं वो किसी पेंटिंग की तरह मेरे दिमाग में छप चुका था! दिलो-दिमाग में उनकी यह छवि लिए मैं अपनी फ़िल्म ‘Kshana Kshanam’ की कहानी लिखने लगा।

मैं ‘Kshana Kshanam’ यही सोचकर लिख रहा था कि मुझे इस कहानी से श्रीदेवी को इम्प्रेस करना है। ‘Kshana Kshanam’ दरअसल श्रीदेवी के नाम मेरे प्रेम पत्र की तरह था। ‘Kshana Kshanam’ बनाने के दौरान मैं अपनी नज़रें उनकी खूबसूरती, व्यक्तित्व और करिश्मे से हटा नहीं पाता था। मैंने श्रीदेवी का एक नया रूप देखा। उनके आस-पास एक अदृश्य दीवार हमेशा रहती जिसके पार जाने की इजाज़त वो किसी को नहीं देतीं। वो अपने आत्म-सम्मान और मर्यादा के घेरे में किसी को प्रवेश करने नहीं देतीं। उनके साथ काम करते हुए और उनके अभिनय की तकनीक को गौर से देखते हुए एक डायरेक्टर के रूप में भी मैंने बहुत कुछ सीखा।

किरदार और अभिनय की बारीकियां मैंने उनसे सीखीं। मेरे लिए वो सिनेमाई अभिनय की एक मिसाल हैं! उनका स्टारडम और लोकप्रियता ऐसा कि विश्वास करना मुश्किल है। जब हम नंदयाल में Kshana Kshanam की शूटिंग कर रहे थे तो पूरा शहर उनको देखने के लिए जमा हो गया था। बैंक, सरकारी संस्थान, स्कूल, कॉलेज सब बंद थे और पूरा शहर उनको देखने के लिए आ गया था। उस दौरान वो नंदयाल में जिस बंगले में रह रहीं थीं, मैं उनके बंगले के पास ही दूसरे बंगले में रह रहा था। बीस हज़ार से भी ज्यादा लोग उनके बंगले के बाहर उनकी एक झलक पाने के इंतज़ार में खड़े रहते।

पचास से ज्यादा गार्ड और सौ से ज्यादा मजबूत पुलिसकर्मी हमेशा श्रीदेवी की सुरक्षा में उनके बंगले के बाहर तैनात रहते। जब श्रीदेवी अपने बंगले से शूटिंग लोकेशन के लिए निकलतीं तो हमें मालूम हो जाता। क्योंकि हम देख पाते कि हवा में काफी धूल उड़ने लगी है और ये धूल इसलिए क्योंकि श्रीदेवी की कार के पीछे हजारों लोग दौड़ रहे होते, जिससे यह धूल आसमान में उड़ने लगती थी! ऐसा सुपरस्टार मैंने नहीं देखा और अब वो हमारे बीच नहीं हैं ! श्रीदेवी ईश्वर की एक ऐसी अमूल्य कृति थीं, जो वो हजारों साल में एक बार ही बनाते हैं।

अब जबकि वो हमारे बीच नहीं हैं, हम निर्देशकों के लिए यह एक उपलब्धि है कि हमने उन्हें कैमरे में कैद किया है और हमारी सिनेमा की यह एंजेल अब एक डिवाइन एंजेल बन गयी हैं। मैं ईश्वर का धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने श्रीदेवी की रचना की और मैं Louis Lumiere का भी आभारी हूं, जिन्होंने मूवी कैमरे की खोज की थी और हमें मौका दिया कि हम श्रीदेवी को अपने फ़िल्मों में उतार सके।

मुझे बिल्कुल भरोसा नहीं हो रहा कि वो अब हमारे बीच नहीं हैं। काश ये एक बुरा सपना होता! पर ऐसा नहीं है। मैं उनकी यादों में खोया हुआ हूं! मैं श्रीदेवी से नफ़रत करता हूं.. मैं उनसे इसलिए हेट करता हूं कि उन्होंने यह अहसास दिला दिया कि वो भी एक मनुष्य ही थीं। मुझे इस बात से भी नफ़रत है कि उनके दिल को भी ज़िंदा रहने के लिए धड़कनों की ज़रूरत थी। मुझे हेट है कि उनके पास भी एक ऐसा ही दिल था जो कभी भी धड़कना बंद कर देगा। मुझे नफ़रत है कि मैं उनके निधन के संदेश पढ़ने के लिए जीवित हूं। उनकी जान लेने के लिए मुझे ईश्वर से भी आज नफ़रत हो रही है और यूं मर जाने के लिए मैं श्रीदेवी से भी हेट कर रहा हूं। मैं आप से बेहद प्यार करता हूं श्री, चाहे आप जहां कहीं भी रहे!”

– राम गोपाल वर्मा

Loading...

Check Also

दीपिका की चुनरी पर ससुराल वालों ने बरसों पुराना लिखा आशीर्वाद, शादी होने से पहले ही दिया था गिफ्ट

दीपिका की चुनरी पर ससुराल वालों ने बरसों पुराना लिखा आशीर्वाद, शादी होने से पहले ही दिया था गिफ्ट

हर सुहागिन सुहाग की सलामती की दुआ करती है। इस दुआ को कबूल कराने के …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com