सीरिया के पूर्वी घौता इलाके में हवाई हमलों और गोलाबारी से 48 घंटों में 250 की मौत: मानवाधिकार समूह

ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी ऑफ ह्यूमन राइट्स (एसओएचआर) ने मंगलवार को कहा कि सीरिया के पूर्वी घौता इलाके में हुए हवाई हमलों और गोलाबारी में  पिछले 48 घंटों में कम से कम 250 नागरिकों की मौत हो गई.

समूह ने इसे पिछले कुछ वर्षो में अब तक का सबसे भीषण हमला करार दिया है. मृतकों में 58 बच्चे और 42 महिलाएं शामिल हैं.

एजेंसी की खबर के मुताबिक, सीरियाई सेना द्वारा विद्रोहियों के नियंत्रण वाले हमौरिया कस्बे में सोमवार को किए गए हवाई हमलों और गोलाबारी में 100 से भी अधिक लोग मारे गए और 1,200 अन्य घायल हो गए.

एसओएचआर कार्यकर्ताओं और निवासियों के अनुसार यह निरंतर बमबारी के बीच रहने जैसा है. मानवाधिकार समूह ने कहा कि मंगलवार को कम से कम 106 नागरिकों की मौत हो गई.

इमरान खान की शादी को लेकर मौलाना का बयान, बीवी नहीं संभालती तो मुल्‍क क्‍या संभालेगा

2013 में गई करीब 1400 लोगों की जान

समूह ने कहा कि इस हमले में मृतकों का आंकड़ा 2013 में पूर्वी घौता में हुए कथित रसायनिक हमले के बाद से सबसे ज्यादा है. 2013 के हमले में करीब 1,400 लोगों की जान चली गई थी.

जिंदगी के सबसे बुरे दिन

पूर्वी घौता स्थित अस्पताल के निदेशक और बाल रोग विशेषज्ञ अमानी बलौर ने कहा, ये घौता में हमारी जिंदगी के सबसे बुरे दिन हैं. घौता में हम पर पिछले पांच सालों से हवाई हमले किए जा रहे हैं और यह हमारे लिए कोई नई बात नहीं है. लेकिन हमने इससे बुरी स्थिति नहीं देखी.

डॉक्टरों ने कहा कि वे घायलों के ईलाज के लिए रात दिन काम कर रहे हैं. बता दें कि सोमवार को पूर्वी घौता में कई चिकित्सा सेवाओं में रुकावट आने की जानकारी मिली है.

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान