उन्होंने खैबर पख्तूनख्वाह के पूर्व मुख्यमंत्री अकरम खान दुर्रानी के काफिले पर बन्नू में हुए हमले की निंदा की. इस हमले में दुर्रानी बाल-बाल बच गए थे, लेकिन चार लोगों की मौत हो गई थी.