पाकिस्तानी सेना के हाथ में फंसे हैं इमरान: जनरल जेजे सिंह

- in पंजाब, राज्य

लुधियाना। पाकिस्तान में चुनाव से पहले और बाद में इमरान खान के जो बयान आए हैं, उनको सुनकर एक बात तो साफ है कि वह पाकिस्तानी सेना के हाथ में फंसे हुए हैं। आइएसआइ और सेना का पाकिस्तानी सरकार पर जो ट्राई-एंगल होल्ड है, इमरान भी उसी के बीच में रहेंगे। वह वैसे ही काम करेंगे, जैसे उनको ऊपर से हिदायत दी जाएगी। मैं नहीं समझता कि वह हमारे देश के प्रधानमंत्री की तरह से काम कर सकेंगे। यह बात भारतीय सेना के पूर्व प्रमुख व अरुणाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल जनरल जेजे सिंह ने कही।पाकिस्तानी सेना के हाथ में फंसे हैं इमरान: जनरल जेजे सिंह

सिंह यहां एक यूथ फेस्टिवल में पहुंचे थे। इमरान की ताजपोशी पर भारतीय नेताओं के पाकिस्तान जाने की बात पर उन्होंने कहा कि अभी तक ऐसा कोई अंदेशा नहीं है। सरकार स्पष्ट कर चुकी है कि पाकिस्तान पहले आतंकवाद रोके, उसके बाद ही उससे बातचीत की जाएगी। वह एक तरफ बातचीत करते हैं, दूसरी तरफ से कारगिल और पठानकोट पर अटैक हो जाता है।

पर्दे के पीछे हुकूमत चलाने वाले नहीं चाहते शांति

पूर्व सेना प्रमुख जेजे सिंह ने कहा कि पाकिस्तान बयान जारी करता है कि शांति के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं है। मगर पर्दे के पीछे से हुकूमत चलाने वाले नहीं चाहते कि शांति का माहौल बने। दोनों देशों के लोगों का व्यापार और आपसी भाईचारा बढ़े। ऐसा होने पर उनकी एहमियत खत्म हो जाएगी। अपना उल्लू सीधा करने के लिए वो हमेशा कश्मीर जैसा कोई और मुद्दा खड़ा करते रहेंगे।

पाकिस्तान पर किसी देश की सरकार को भरोसा नहीं

जनरल जेजे सिंह ने कहा कि पाकिस्तान हमारे देश के खिलाफ आतंकी कार्रवाई करता रहेगा, जिसके लिए उसे चीन की शह और मदद मिल रही है। पाकिस्तान पर किसी देश की सरकार भरोसा नहीं कर पा रही है। इससे पाकिस्तान के आम नागरिकों को बहुत सी परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं।

देश सेवा के लिए चुनाव लडऩे से इंकार नहीं

चुनाव लड़ने के सवाल पर सिंह ने कहा कि वह देश की सेवा करना चाहते हैं। पहले भी सेवा के लिए चुनाव में उतरे थे, अभी भी विचार वही है। मणिपुर में 12 साल के बच्चे के एनकाउंटर मामले पर सुप्रीम कोर्ट के आए फैसले पर उन्होंने कहा कि उस मामले में सेना गिल्टी अनाउंस नहीं हुआ है। मामले की जांच सीबीआइ कर रही है। भारतीय सेना ने कभी किसी बेकसूर को सजा नहीं दी है। अगर ऐसा करती है तो उसके लिए कानून में बेहद कड़ी सजा भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के