अगर आप भी करते हो अपनी माँ से प्यार, तो ये खबर सिर्फ है आपके लिए

- in ज़रा-हटके

आज हम आपके सामने कुछ ऐसा रखने जा रहे हैैं जो वाकई में अनमोल है एक मां की बेटी को दी गई वो सीख जिसे पढ़कर आपकेे आंखों से आंसू आ जाएंगे।अगर आप भी करते हो अपनी माँ से प्यार, तो ये खबर सिर्फ है आपके लिए

मां की सीख

सुबह चार बजे अचानक बजी फ़ोन की घंटी से मेरी नींद खुल गई, माना जाता है कि सुबह के चार बजे फ़ोन आना किसी अनहोनी सूचना की ओर इशारा करता है तभी मैंने देखा पापा का फोन था दिल एकदम सुन्‍न हो गया और हाथ पांव भी कांपने लगे क्‍योंकि कुछ दिनों से मां की तबियत ठीक नहीं थी। तभी आवाज आई फ़ोन तो उठाओ.. मेरे पति राहुल ने कहा।

मैनें फोन उठाया- हेलो पापा..

पापा ने कहा- बेटा जितनी जल्दी हो सके घर आ जाओ…

मैंने कहा- क्या हुआ पापा… मां ठीक तो है… लेकिन जवाब में बस आ जाओ… कहते हुए पापा ने फ़ोन रख दिया, मैं पागल हो गई और फूट फूट कर रोने लगी। तभी मेरे पति ने मुझसे कहा सम्‍भालो खुद को पागल मत बनो.. जल्दी करो घर चलना है।

करीब 1 घंटे के सफर के बाद मैं घर पहुंची, मां मैं आ गई। मां ने बड़े ही मुश्किल से आंखें खोल कर मेरी ओर देखा, और कहा बेटा तू ठीक तो है। खुद जिंदगी और मौत से जूझ रही और मुझसे पूछ रही मां की ठीक तो है न और अब भी अपनी औलाद की चिंता है। मैंने कहा मां मैं ठीक हूं तुम परेशान मत हो। बस जल्दी ठीक हो जाओ, फिर बाहर चलेंगे। बेटा मुझको पता है मेरे पास ज्यादा समय नहीं है। ये बोलते हुए मां ने मेरी ओर एक पत्र दिया। ये क्या है, मैंने नम आंखो से कहा। बेटा ये मेरी अंतिम नसीहत है और कुछ जरूरी बातें भी। अंतिम शब्द सुनकर मैं खुद को रोक नहीं पाई और मां से लिपट कर मैं फूट फूट कर रोने लगी। तभी पापा ने मेरे कंधे पर हाथ रखा और कहा कि बेटा बस कर… वो जा चुकी है।

आज मैंने अपनी सहेली, शिक्षक, मां सबकुछ मुझे छोड़कर जा चुकी थी। मानो ऐसा लग रहा था कि मेरे शरीर का कुछ हिस्सा मुझसे अलग हो चुका है। मां के अंतिम संस्कार के बाद मैंने मां का लेटर खोला। उसमें लिखा था- मेरी प्यारी बेटी जब तुम ये लेटर पढ़ रही होगी, तब मैं शारीरिक रूप से तुमसे अलग हो चुकी होगी। लेकिन मेरी सीख, मेरे संस्कार हमेशा तुम्हें मेरे होने का आभास दिलाते रहेंगे। इसमें मां ने मेरे लिए तीन नसीहत दी थी। मां बाप के बाद मायका भैया और भाभी से होता है। कभी लेने और देने के बीच प्यार को मत आने देना।

तुम ऐसी बनना जैसे तुम अपनी बेटी को बनाना चाहती हो, क्योंकि तुम आने वाली मां हो और मैं बीते हुए कल की बेटी एक औरत की पहचान उसके त्याग, ममता, और प्यार से ही होती है जो हमेशा बनाये रखना। अगले जन्म में मैं तुम्हारी बेटी बनकर आना चाहती हूं, तुममें आने वाली मां देखना चाहती हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चलती ट्रेन में लड़की से हुआ एकतरफा प्यार, और फिर तलाशने के लिए करना पड़ा ये काम

कहते है कि प्यार पहली नजर में ही