ICJ के फैसले से हताश पाक उठा सकता है ये बड़ा कदम…

- in राष्ट्रीय

कुलभूषण जाधव मामले में हेग स्थ‍ित अंतरराष्ट्रीय अदालत (ICJ) ने पाकिस्तान के दावों को खारिज करते हुए जाधव की फांसी पर रोक लगा दी, जिसके बाद से पाकिस्तान में खलबली मची हुई है. ICJ में जाधव मामले की पैरवी करने वाले पाकिस्तानी वकील खैबर कुरैशी की क्षमता पर सवाल उठाए जा रहे हैं, जिसके चलते पाकिस्तान सरकार ने वकीलों की नई टीम गठित करने का फैसला लिया है.ICJ के फैसले से हताश पाक उठा

पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय अदालत की ओर से जाधव की फांसी पर रोक लगाने के बाद से पाकिस्तानी सरकार मीडिया और विपक्ष के निशाने पर आ गई है. लिहाजा अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले से हताश पाकिस्तान सरकार अब जाधव मसले की पैरवी के लिए वकीलों की नई टीम गठित करेगी.

ये भी पढ़े: GST: देश में 1205 सामानों के रेट तय, जानिए क्या हुआ सस्ता और कहां देना होगा ज्यादा पैसा…

बृहस्पतिवार को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीत ने कहा कि कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तानी वकील ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में अपना पक्ष मजबूती से रखा. हालांकि ICJ ने जाधव मामले में राजनयिक एक्सेस पर अपना विचार दिया है.

पाकिस्तानी अखबार ने सरताज के हवाले से बताया कि पाकिस्तान की सुरक्षा बेहद अहम है और हमें अपनी संप्रभुता को बनाए रखना भी बेहद जरूरी है. सरताज ने कहा कि अब जाधव मामले की पैरवी के लिए पाकिस्तान वकीलों की नई टीम गठित करेगी, जो ICJ में अपना पक्ष मजबूती के साथ रखेंगे.

मालूम हो कि जाधव मामले पर अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के आदेश के बाद से पाकिस्तान में विपक्ष सरकार पर हावी हो गया है. पाकिस्तान सरकार पर विपक्षी जमकर निशाना साध रहे हैं. पाकिस्तान के लोग भी सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं. लिहाजा पाकिस्तान ने अब नया दांव चला है.

पाक की 7 करोड़ की फीस पर भारी पड़ा भारत का एक रुपया

जाधव केस पर अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान में विपक्षी दलों से लेकर आम जनता के बीच गम पसर गया. अब वहां अजीबो-गरीब बहानेबाजी भी जारी है. पाकिस्तान में उनके वकीलों की फीस को लेकर भी सवाल उठाए जाने लगे हैं. पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की नेता शयरी रहमान ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में पाकिस्तान का पक्ष रखने गए डेलीगेशन की फीस का बहाना बनाकर अपनी भड़ास निकाली.

पीपीपी नेता ने कहा है कि पाकिस्तान सरकार ने वकीलों को करोड़ों रुपये दिए. उन्होंने कहा कि हमारा केस मजबूत है और भारत ने कुछ क्लॉज़ का गलत इस्तेमाल किया है. पीपीपी नेता ने नवाज सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार क्या कर रही है. बताया जा रहा है कि पाक सरकार ने वकीलों पर करीब सात करोड़ रुपया खर्च किया है.

You may also like

सुप्रीम कोर्ट: मोबाइल-बैंक खातों से आधार जोड़ना गलत, सरकार ने नहीं की तैयारी

आधार कार्ड की अनिवार्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट के पांच