सार्वजनिक मंचों पर भी प्रोटोकॉल का रखें ध्यान

हरियाणा सरकार की आईएएस अफसरों के लिए जारी गाइडलाइन में तमाम ब्यूरोक्रेट्स को यह हिदायत भी दी गई है कि वे सार्वजनिक मंचों या स्थानों पर होने वाले कार्यक्रमों में भी निर्धारित मानदंडों का ख्याल रखें. सर्कुलर में कहा गया है कि सार्वजनिक स्थानों पर होने वाले कार्यक्रमों में संबंधित क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों के लिए मंच पर की जाने वाली बैठक व्यवस्था (सीटिंग अरेंजमेंट) में भी प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाए. मुख्य सचिव द्वारा जारी सर्कुलर में कहा गया है कि अगर किसी सांसद का संसदीय क्षेत्र दो जिलों में पड़ता है तो ऐसे किसी कार्यक्रम स्थल पर संबंधित दोनों जिलों के अफसर सांसद को अपनी ओर से अग्रिम निमंत्रण भेजें. साथ ही कार्यक्रम के दौरान होने वाली सभी गतिविधियों की पूर्व सूचना भी उन्हें दें.

आईएएस अफसरों ने सर्कुलर पर जताया आश्चर्य

हरियाणा सरकार द्वारा आईएएस अफसरों के लिए जारी नए सर्कुलर पर राज्य में कार्यरत कई अधिकारियों ने आश्चर्य व्यक्त किया है. वहीं कई अधिकारियों ने ‘Deal with MPs, MLAs Respectfully’ शीर्षक से जारी इस सर्कुलर पर सवाल भी उठाए हैं. हरियाणा में कार्यरत एक वरिष्ठ आईएएस अफसर ने नाम न छापने की शर्त पर जीन्यूज को बताया कि हम हमेशा ही सांसदों और विधायकों का सम्मान करते हैं. इस सर्कुलर को लेकर उन्होंने कहा, ‘कई बार जनप्रतिनिधि ही कुछ लोगों के हित में नियमों में ढील देने को बाध्य करते हैं. तभी हम ऐसा करने पर मजबूर होते हैं.’ एक अन्य आईएएस अधिकारी ने सर्कुलर को लेकर कहा, ‘अगर किसी व्यक्ति ने कोई संगीन अपराध किया है और जनप्रतिनिधि हमें उस व्यक्ति को लेकर ढिलाई बरतने को कहेंगे, तो हमें जनता के पक्ष को पहले देखना होगा. ऐसी स्थिति में हमें आम आदमी के साथ खड़ा होना होगा.’