हैदराबाद: एलेक्‍स हेल्‍स की आक्रामक शुरुआत और अंतिम ओवर्स में यूसुफ पठान की आतिशी पारी की बदौलत हैदराबाद ने आईपीएल 11 के 36वें मुकाबले में दिल्‍ली को सात विकेट से हरा दिया. दिल्‍ली की टीम ने पहले बल्‍लेबाजी करते हुए 5 विकेट खोकर 163 रन बनाए थे. हैदराबाद ने एक गेंद रहते ही 164 रनों का लक्ष्‍य हासिल कर लिया.

हैदराबाद ने नौ मैचों में सातवीं जीत के साथ प्‍वॉइंट टेबल में शीर्ष स्‍थान फिर से हासिल कर लिया. शनिवार को पहले मुकाबले में चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को हराकर शीर्ष स्‍थान पर पहुंची थी. चेन्‍नई के भी 14 प्‍वॉइंट हैं, लेकिन हैदराबाद का नेट रन रेट बेहतर है. वहीं 10 मैच में सातवीं हार के साथ दिल्‍ली के प्‍लेऑफ में पहुंचने की उम्‍मीदें अब काफी कम हो गई हैं. यदि वह बाकी चार मुकाबले जीत भी जाती है तो उसे दूसरी टीमों के भरोसे रहना होगा.

धवन-हेल्‍स की अच्‍छी शुरुआत

हैदराबाद की शुरुआत शानदार रही. एक ओर से एलेक्‍स हेल्‍स बड़े शॉट लगा रहे थे तो दूसरे छोर पर शिचार धवन और टाइमिंग तथा प्‍लेसमेंट के लिए जूझ रहे थे. दोनों ने नौ ओवर में 76 रन जोड़े थे जब हेल्‍स को अमित मिश्रा ने क्‍लीन बोल्‍ड किया. हेल्‍स ने 31 गेंदों पर तीन चौके और तीन छक्‍कों की मदद से 45 रन बनाए. मिश्रा ने अपने अगले ओवर में धवन को बोल्‍ड कर हैदराबाद को दूसरा झटका दिया. धवन ने 33 रनों की पारी खेली. हेल्‍स की जगह खेलने आए कप्‍तान विलियमसन ने दूसरा छोर संभालने पर जोर दिया.

दूसरे छोर से मनीष पांडे ने 17 गेंद पर 21 रन बनाए, लेकिन वे जब आएट हुए तब हैदराबाद को जीत के लिए 15 गेंद पर 32 रन चाहिए थे. यूसुफ पठान को आते ही दो जीवनदान मिले. पठान ने खाता भी नहीं खोला था जब विजय शंकर ने डीप स्‍क्‍वायर लेग पर उनका कैच छोड़ा. 19वें ओवर की अंतिम गेंद पर बोल्‍ट की गेंद पर अंपायर ने उन्‍हें एलबीडब्‍ल्‍यू करार दिया, लेकिन रिव्‍यू में निर्णय बदल गया. यूसुफ ने 12 गेंद पर दो चौकों ओर दो छक्‍कों की मदद से 27 रनों की नाबाद पारी खेल मुकाबले को आसान बना दिया.

राशिद खान को उनकी बेहतरीन गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया. दिल्‍ली के लिए अमित मिश्रा ने दो और लियाम प्‍लंकेट ने एक विकेट लिए. इससे पहले दिल्‍ली के कप्‍तान श्रेयस अय्यर ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने का फैसला किया. पृथ्‍वी शॉ की तेज शुरुआत के बाद हैदराबार के स्पिनर राशिद खान ने दिल्‍ली के बल्‍लेबाजों पर अंकुश लगा दिया, फिर भी दिल्‍ली की टीम 20 ओवर में 163 रन का स्‍कोर खड़ा करने में सफल रही.हालांकि यह काफी साबित नहीं हुआ.

दिल्‍ली के बल्‍लेबाजों पर राशिद का ब्रेक

दिल्‍ली ने पृथ्‍वी शॉ के साथ ग्‍लेन मैक्‍सवेल को ओपनिंग के लिए भेजा. उनका यह दांव सफल नहीं रहा, क्‍योंकि मैक्‍सवेल केवल दो रन बनाने के बाद दुर्भाग्‍यपूर्ण तरीके से रन आउट हो गए. पृथ्‍वी शॉ के स्‍ट्रेट ड्राइव पर गेंदबाज संदीप शर्मा का हाथ लगा और गेंद सामने विकेट से जा टकराई जब मैक्‍सवेल क्रीज से बाहर थे. हालांकि, इससे पृथ्‍वी की बल्‍लेबाजी पर कोई असर नहीं पड़ा और वे बड़े शॉट्स लगाते रहे. उनके सभी शॉट दर्शनीय थे. 11वें ओवर में जब पृथ्‍वी आउट हुए, तब तक टीम का स्‍कोर 95 पहुंच चुका था.

पृथ्‍वी ने 36 गेंदों पर छह चौके और तीन छक्‍कों के साथ 65 रनों की शानदार पारी खेली. दूसरे छोर पर कप्‍तान श्रेयस अय्यर भी जमकर खेल रहे थे, लेकिन पृथ्‍वी के आउट होने के बाद हैदराबाद के गेंदबाजों, खासकर राशिद खान ने रनों की गति पर अंकुश लगा दिया. पृथ्‍वी के आउट होने के बाद अगले पांच ओवर में अय्यर और रिषभ पंत 30 रन ही जोड़ सके. इसी दबाव में 16वें ओवर की पहली गेंद पर अय्यर आउट हो गए. उन्‍होंने 36 गेंद पर 44 रन बनाए.

अपना पहला मैच खेल रहे नमन ओझा केवल एक रन बना सके. रिषभ भी 19 गेंद पर 18 रन बनाकर 17वें ओवर में आउट हुए तो दिल्‍ली की बड़े स्‍कोर की उम्‍मीदों को झटका लगा. हालांकि, अंतिम ओवर में विजय शंकर ने भुवनेश्‍वर कुमार की गेंदबाजी पर 17 रन जुटाए और स्‍कोर 160 के पार पहुंचा दिया. हैदराबाद के लिए राशिद खान ने किफायती गेंदबाजी करते हुए 4 ओवर में 23 रन देकर दो विकेट लिए. एक विकेट सिद्धार्थ कौल को विकेट मिला जबकि दो बल्‍लेबाज रन आउट हुए.