केरल हाईकोर्ट के जज की सख्त टिप्पणी, कहा- जजों की नौकरी किसी परिवार की संपत्ति नहीं

- in Mainslide, राष्ट्रीय

देश की अदालतों में जजों की नियुक्ति प्रकिया को लेकर बहस अब भी थमी नहीं है। इसी क्रम में गुरुवार को सेवानिवृत्त हुए केरल हाईकोर्ट के न्यायाधीश बी केमल पाशा ने जजों की नियुक्ति को लेकर सख्त टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति एक परिवार की संपत्ति नहीं है और विभाजन को जाति के आधार पर नहीं बांटा जाना चाहिए। उनका यह बयान केरल हाईकोर्ट के उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के तौर पर पांच समर्थकों के प्रमोशन के लिए सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की सिफारिश को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज करने के दो दिन बाद आया है। केरल हाईकोर्ट के जज की सख्त टिप्पणी, कहा- जजों की नौकरी किसी परिवार की संपत्ति नहींबता दे कि याचिकाकर्ताओं ने सीजे जोवसन और साबू की वकालत करने वाले कॉलेजियम को एक नई सिफारिश करने के लिए एक दिशा मांगी थी, जहां सामान्य पद के वकील,  ‘जिनके पास कोई गॉडफादर नहीं है, उन पर विचार किया जाता है।’  इसमें उन्होंने तर्क दिया कि अनुशंसित उम्मीदवार पूर्व न्यायाधीशों या वकील जनरल के परिचित और रिश्तेदार हैं। याचिका में आरोप लगाया गया है कि एक तो हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश का दामाद है, दूसरा हाईकोर्ट के जज का चचेरा भाई है, तीसरा एक शीर्ष न्यायिक अधिकारी का दामाद है और चौथा सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज का रिश्तेदार है। 

याचिकाकर्ताओं ने इन पांच समर्थकों को सिफारिश करने का दोषी ठहराया है। न्यायमूर्ति पाशा ने बार और बेंच के सदस्यों द्वारा विदाई बैठक में दिए गए अपने भाषण में कहा कि न्यायाधीशों की नियुक्ति किसी परिवार की संपत्ति नहीं है। मुझे इस पर विश्वास नहीं है कि न्यायाधीशों को धर्म, जाति या उप जाति के आधार पर बांटा जाना चाहिए। 

न्यायमूर्ति पाशा ने कहा कि उन्होंने बार से कुछ नामों पर विचार करने की सिफारिश की है। उन्होंने कहा, ‘अगर मीडिया द्वारा दिए गए नाम सही हैं, तो मैं बहुत अच्छी तरह से कह सकता हूं कि मेरे साथ इस अदालत के अधिकांश न्यायाधीशों के पास इन लोगों के चेहरों को देखने के लिए कोई अच्छा भाग्य नहीं है। क्या न्यायपालिका के लिए यह अच्छा है? ‘

उन्होंने कहा कि योग्य वकील बार के सदस्यों में सक्षम हैं। कुछ लोगों को चुनने के लिए योग्य जज नहीं हैं उनकी अनुशंसा करने के लिए सिस्टम पर सवालिया निशान उठाएंगे। एक न्यायाधीश को न्याय के इस मंदिर के मंत्री के रूप में माना जाना है। न्याय देने का कर्तव्य कोई ईश्वरीय कार्य नहीं है।  जो लोग ईश्वरीय कार्यों को करने के योग्य होते हैं उन्हें चुना जाना चाहिए, उनके पास इसकी क्षमता होनी चाहिए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आज का राशिफल और पंचांग: 22 सितंबर दिन शनिवार, आज इन राशि वालों के साथ होगा कुछ ऐसा…

।।आज का पञ्चाङ्ग।। आप सभी का मंगल हो