गुरमीत राम रहीम ने जेल में उपजाए डेढ़ क्विंटल आलू और पांच प्रकार की सब्जियां

- in राज्य, हरियाणा

रोहतक। दो साध्वियों से दुष्कर्म के मामले में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सुनारिया जेल में सब्जियों की खेती खूब भा रही है। गुरमीत राम रहीम ने जेल में डेढ़ क्विंटल आलू उगाई है। जेल की एक हजार गज जमीन पर गुरमीत ने चार-पांच हरी सब्जियां भी उगाई हैं। बताया जाता है कि वह जेल में पूरी लगन से सब्जियों की खेती में लगा रहता है।गुरमीत राम रहीम ने जेल में उपजाए डेढ़ क्विंटल आलू और पांच प्रकार की सब्जियां

एक हजार गज में डेरामुखी ने उगाई हैं पांच से अधिक हरी सब्जियां

वैसे, जेल में किए जा रहे कार्य का गुरमीत को अभी तक मेहनताना नहीं मिला है, क्योंकि अदालत ने उसके सभी खाते सील कर रखे हैं। ऐसे में जेल में गुरमीत का खर्चा परिजनों द्वारा दिए गए रुपये से ही चल रहा है। गौरतलब है कि साध्वियों से दुष्कर्म मामले में गुरमीत राम रहीम को सीबीआइ की विशेष अदालत ने 25 अगस्त 2017 को दोषी ठहराया था।

इससे बाद से ही वह सुनारिया जेल में बंद है। अदालत ने उसे 28 अगस्त को 20 साल की सजा सुनाई थी। जेल नियमों के मुताबिक गुरमीत को श्रम के तौर पर बागवानी का कार्य सौंपा गया था। जेल प्रशासन ने इसके लिए उसे एक हजार गज जमीन मुहैया करवाई थी।

रोजाना दो घंटे करता है काम

गुरमीत ने रोजाना करीब दो घंटे खेती करते हुए आलू, घीया, तौरी, टमाटर व एलोवेरा की बिजाई की थी। आलू की फसल तैयार हो गई है। करीब डेढ़ क्विंटल आलू की उपज हुई है। एलोवेरा की पौध भी काफी बड़ी हो गई है। अब तो केवल एलोवेरा की निराई का कार्य ही शेष बचा है। वह सुबह-शाम योग व ध्यान भी करता है।वह जेल में बना खाना खाता है। देखरेख में लगे चार नंबरदारों के साथ अब तो वह खूब बतियाता भी है।

खाते सील, इसलिए नहीं डाला गया मेहनताना

जेल के नियमों के अनुसार, किसी भी कैदी को मेहनताना की राशि नकद नहीं दी जाती। प्रत्येक कैदी के खाते में ऑनलाइन ही मेहनताना की राशि भेजी जाती है। अदालत के आदेश पर गुरमीत के सभी खाते सील कर रखे है। ऐसे में उसके खाते में मेहनताने का अभी तक एक भी रुपया नहीं डल सका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के