अस्थायी रेल कर्मियों के लिए सरकार ने सुनाई बड़ी खुशखबरी, किया बीमा के लाभ का ऐलान

नई दिल्ली। रेलवे में काम करने वाले सभी स्थायी व अस्थायी कर्मचारियों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाई) और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) का लाभ मिलेगा। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने सभी रेलवे जोन के महाप्रबंधकों को पत्र लिखकर इस पर अमल करने के निर्देश दिए हैं।रेल कर्मियों के लिए सरकार ने सुनाई बड़ी खुशखबरी, किया अस्थायी कर्मियों को भी बीमा के लाभ का ऐलान

उन्होंने कहा कि इसके तहत ट्रेन में तैनात ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग सर्विस (ओबीएचएस) के कर्मचारियों, सफाई कर्मचारियों, कैटरिंग कर्मचारियों सहित ठेकेदार के नीचे काम करने वाले अन्य मजदूरों को बीमा योजना का लाभ मिलना चाहिए। सभी जोन को एक नोडल ऑफिसर नियुक्त करने को कहा गया है।

नौकरी से गायब रहने वाले रेलवे के 13 हजार कर्मी होंगे बर्खास्त

रेलवे में मर्जी से लंबी छुट्टियां मना रहे कर्मचारियों पर गाज गिर सकती है। रेलवे ने अपने 13 हजार से ज्यादा ऐसे कर्मचारियों की पहचान की है जो लंबे समय से अनधिकृत रूप से छुट्टी पर हैं। रेलवे ने उनकी सेवाएं खत्म करने के लिए अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है।

दरअसल, रेलवे ने प्रदर्शन सुधारने और ईमानदार व मेहनती कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने के लिए एक अभियान शुरू किया है। यह कार्रवाई उसी अभियान का हिस्सा है। रेलवे की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, रेलवे ने अपने सभी अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को निर्देश दिया है कि वे आवश्यक प्रक्रियाओं का पालन करते हुए इन कर्मियों को कर्मचारी सूची से बाहर करें।

नौ माह में वसूला 850 करोड़ जुर्माना

वर्तमान वित्तीय वर्ष के शुरुआती नौ महीनों में रेलवे ने यात्रियों से टिकट से जुड़े जुर्माने के रूप में 850 करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि वसूली है। रेल राज्यमंत्री राजन गोहाई ने शुक्रवार को राज्यसभा में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वित्त वर्ष 2017-18 में दिसंबर तक 18.18 लाख चैकिंग की गईं और इस दौरान 1.83 करोड़ यात्रियों से जुर्माने की उक्त राशि वसूली गई।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अमृतसर: प्रशासनिक लापरवाही की बलिहारी, पड़ी दर्जनों जिंदगियों पर भारी, 50 मौतों की पुष्टि

नई दिल्ली। देश में विजय दशमी के पावन