गोरखपुर लोकसभा उप चुनाव: निषाद पार्टी के प्रवीण कुमार निषाद बने सपा के प्रत्याशी

- in उत्तरप्रदेश

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ बड़ा मोर्चा खोलने की तैयारी में लगी समाजवादी पार्टी ने आज गोरखपुर लोकसभा उप चुनाव के लिए अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। लखनऊ में आज समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी के प्रत्याशी के रूप में प्रवीण कुमार निषाद के नाम पर मुहर लगा दी है।  

गोरखपुर लोकसभा उप चुनाव: निषाद पार्टी के प्रवीण कुमार निषाद बने सपा के प्रत्याशी

 

प्रवीण कुमार निषाद समाजवादी पार्टी को समर्थन देने की घोषणा करने वाली निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद के पुत्र हैं। सोमवार को नामांकन पत्र खरीदने के साथ इनका पर्चा दाखिल किया जाएगा। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रेस कॉफ्रेंस में बताया कि गोरखपुर सीट पर होने वाले उपचुनाव में इंजीनियर प्रवीण कुमार निषाद को प्रत्याशी घोषित किया है। गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र में निषाद बिरादरी के करीब साढ़े लाख मतदाता है। अखिलेश यादव की नजर इन्ही वोट पर है। इसके साथ ही पीस पार्टी का साथ मिलने पर मुस्लिम मतदाता भी इनको अपने साथ आने की उम्मीद है। 

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पूर्वांचल की दो पार्टियों के साथ गठबंधन का ऐलान किया। गोरखपुर उपचुनाव में अखिलेश यादव ने पीस पार्टी और निषाद पार्टी का समर्थन मिलने पर धन्यवाद दिया। माना जा रहा है कि गोरखपुर उपचुनाव के लिए अखिलेश ने नई रणनीति बनाई है।

अखिलेश यादव ने कहा कि गोरखपुर उपचुनाव के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं। लड़ेंगे और लड़कर जीतेंगे। इस उपचुनाव में हम केंद्र के घोषणा पत्र और विधानसभा के घोषणा पत्र को लेकर जाएंगे। हम अब सच्चाई पर चर्चा करेंगे। इन्होंने पहले चाय पर चर्चा करके उलझाया, अब पकौड़े पर उलझाने की तैयारी कर ली है। उन्होंने कहा कि आज किसान कर्ज की वजह से मर रहे हैं, लेकिन इनके सहयोग से लोग कागज पर प्लान दिखा कर अरबों-खरबों रुपए लेकर भाग गए।

देश छोड़कर जा रहे निवेशक 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्र सरकार ने कहा था कि विदेशों में जमा धन वापस लाएंगे लेकिन देश का धन विदेश जा रहा है। सरकार कैशलेस की बात कर रही थी लेकिन देश के बैंक कैशलेस हो रहे हैं। निवेशक देश में आने की बजाए देश छोड़कर बाहर जा रहे हैं। अब तक 15,000 से ज्यादा व्यापारी भारत छोड़कर चले गए हैं। 

फॉरवर्ड बनना चाहता था बीजेपी ने बैकवर्ड बना दिया 

अखिलेश यादव ने कहा कि वह फॉरवर्ड बनना चाहते थे। उन्होंने लैपटॉप बांटे, कन्याधन बांटा लेकिन उन पर आरोप लगाया गया कि लैपटॉप और कन्याधान सिर्फ यादवों को दिया गया। आगरा ऐक्सप्रेस-वे बनाया तो क्या उसमें यादवों के लिए अलग लेन बनाई। कब्रिस्तान और श्मशान के लिए बराबर जमीन दी लेकिन उन पर फिर भी आरोप लगाए गए। उन्होंने कहा कि वह फॉरवर्ड बनना चाहते थे लेकिन बीपेजी ने उन्हें बैकवर्ड बना दिया। 

यूपी: एनकांउटर का खौफ, लेकिन अब भी बड़े अपराधियों का कोई पता नहीं

समाजवादी पार्टी ने अभी फूलपुर उपचुनाव के लिए उनका उम्मीदावार घोषित नहीं किया है लेकिन अखिलेश यादव को उम्मीद है कि यहां भी बीजेपी के उम्मीदवार की हार होगी। अखिलेश ने कहा कि उन्हें यकीन है कि फूलपुर में फूल (कमल) मुरझाएगा। 

निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. संजय कुमार निषाद ने कहा कि मुसलमानों और निषादों की बीमारी अब एक जैसी हो गयी है। ऐसे में इस बीमारी का इलाज भी एक जैसा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर हम एक हो जाएं तभी दुश्मन से लड़ सकते हैं।

प्रवीण कुमार निषाद समाजवादी पार्टी के निशान पर उप चुनाव लड़ेंगे। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की प्रेस कांफ्रेंस में पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अयूब के साथ ही निषाद पार्टी अध्यक्ष डा.संजय निषाद भी थे। इस दौरान दोनों ही नेताओं ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के चुने गये प्रत्याशी को अपना समर्थन देने का ऐलान किया। कांग्रेस के बाद सपा ने अब जाकर अपने प्रत्याशियों का ऐलान किया है।

You may also like

केरल बाढ़ पीड़ितों की सराहनीय मदद हेतु यूपी पत्रकार एसोसिएशन को किया सम्मानित

लखनऊ : हाल ही में केरल में आयी