इलाहाबाद में पहली बार बरसात से ही एक बच्चे सहित चार की मौत

इलाहाबाद। संगमनगरी इलाहाबाद में मानसून सत्र की पहली बारिश आफत लेकर आ गई। करीब एक घंटे की बरसात में शहर पानी में सराबोर हो गया। नगर निगम की घोर लापरवाही के कारण जगह-जगह पर खुदे गड्ढों में पानी भर गया। सलोरी में दीवार गिरने के कारण तेज रफ्तार से पानी घर में घुसा, जिसके कारण चार बच्चे बह गए। बारिश के कारण एक बच्चे के साथ चार लोगों की मौत हो गई। इसके बाद फूलपुर के सांसद ने ठीकरा प्रशासन पर फोड़ा है।इलाहाबाद में पहली बार बरसात से ही एक बच्चे सहित चार की मौत

इलाहाबाद में कल शाम बारिश राहत के साथ आफत बनकर आ गई। इस बारिश ने एक बच्चे समेत तीन की जान ले ली। सलोरी के ओम गायत्री नगर में ईश्वर शरण विकास विद्यालय की चहारदीवारी तेज बारिश के कारण ढह गई। इसके बाद पानी अंदर घुस गया। पानी का बहाव इतना तेज था कि वहां खेल रहे चार बच्चे अनिकेत गुप्ता (12) पुत्र घनश्याम गुप्ता, शिखर (11) पुत्र जयसिंह, आदित्य (12) व शिवम (10) पुत्रगण सीमा वर्मा बह गए।

शिवम व आदित्य तो बच गए मगर अनिकेत व शिखर पानी में बह गए। दोनों के शोरगुल करने पर लोग दौड़े और लापता बच्चों की तलाश करने लगे। इसके बाद अनिकेत का शव चहारदीवारी से लगभग 50 मीटर दूर मिला जबकि शिखर की तलाश देर रात तक की जाती रही। स्थानीय लोगों के साथ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंच गए।

दूसरी ओर छोटा बघाड़ा में छात्र सतीश यादव निवासी प्रतापपुर की करंट लगने से मौत हो गई। बारा के ललई गांव में शकीरुल निशा (17) बारिश के दौरान घर के बाहर थी तभी बिजली गिर गई, जिससे उसकी मौत हो गई। मीरापुर में ललिता देवी मंदिर के पास प्रतिमा चक्रवर्ती के घर में स्थित पेड़ पर बिजली गिर गई, जिससे उनका गेट क्षतिग्रस्त हो गया। जाफरी कॉलोनी में चहारदीवारी जमींदोज होने से दो लोग घायल हो गए।

प्रशासन की लापरवाही से पानी में बहकर हुई बच्चे की मौत : सांसद

शहर के सलोरी में बरसात के चलते दीवार गिरने से बच्चों की मौत हो जाने पर समाजवादी पार्टी के सांसद नागेंद्र सिंह पटेल ने पीडि़तों के घर पहुंचकर शोक व्यक्त करते हुए प्रशासन से उचित मुआवजा देने की मांग की है। सपा सांसद को स्थानीय लोगों ने बताया कि बहुत पुरानी चहारदीवारी पर फिर से ऊंचाई बढ़ा दी गई थी। पानी निकासी के लिए कोई रास्ता नहीं है।

नगर निगम एवं एडीए ने समय रहते ध्यान नहीं दिया। इतना ही नहीं इतना बड़ा हादसा होने के बाद भी प्रशासनिक अधिकारियों का अता पता नहीं है। सांसद नागेंद्र सिंह पटेल पीडि़तों से मिलने के बाद बड़े नाले पर भी पहुंचे जहां लापता हो गए बच्चे को खोजा जा रहा है। उन्होंने नगर निगम की टीम से प्रगति की जानकारी ली तथा फोन पर उच्चाधिकारियों से बात कर घटना स्थल पर लोहे की जाली तत्काल लगाने की मांग की। सांसद पटेल ने प्रशासन पर पूरी तरह से लापरवाही का आरोप लगाया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

निदा खान को तीन तलाक और हलाला के खिलाफ बोलने की मिली इतनी बड़ी सज़ा

बरेली। तत्काल तीन तलाक और हलाला के खिलाफ आवाज