फूड ट्रक: जिसमें कुक से लेकर ड्राइवर तक हैं यहाँ सभी महिलाएं

- in जीवनशैली
कहानी एक ऐसे फूड ट्रक की जिसकी शेफ से लेकर वेटर, ड्राइवर, मैनेजर और मालिक तक, सब महिलाएं हैं. अपनी ग्लोकल फूड की वजह से यह ट्रक एशिया में फेमस है.
अगर आपको लगता है कि खाने का बिजनेस करना सिर्फ लड़कों का ही काम है. तो हम बता दें ऐसा बिलकुल नहीं है. क्योंकि सात लड़कियों ने न केवल इस मिथ को तोड़ा है पर बल्कि वे इस बिजनेस में अपना परचम भी लहरा रही हैं.
 हम बात कर रहे हैं एक ऐसे ही बिजनेस आइडिया के बारे में जिसे सिर्फ महिलाएं चला रही हैं. बैंगलोर में ‘सेवन्थ सिन’ नाम का एक फूड ट्रक जिसे सिर्फ महिलाएं चलाती है. आइये जानते हैं उनके इस फूड ट्रक से जुड़ी कहानी के बारे में.
आपने दिल्ली, मुंबई कोलकाता, पुणे और बेंगलुरू में कई फूड ट्रक्स देखें होंगे और उनका खाना भी चखा होगा पर सेवन्थ सिन कई मामलों में इनसे अलग है. यह भारत ही नहीं एशिया का पहला फूड ट्रक है जिसे पूरी तरह महिलाएं ही ऑपरेट करती हैं. इसमें एक भी पुरुष नहीं है. इनकी टीम में सात महिलाएं है जो इस पूरे बिजनेस को हैंडल करती हैं. जबकि सेवंथ सिन की सीईओ प्रवीणा नायडू पूरा काम देखती हैं.

उनका यह फूड ट्रक बैंगलोर के बेगमेन टेक पार्क के पास खड़ा होता है. इस फूड ट्रक में ये ग्लोकल फूड सर्व करते हैं. दरअसल ग्लोबल फूड को इंडियन तड़के में पेश करना ग्लोकल फूड कहलाता है. खाने का मेनू रोजाना बदलता है. इसमें खासतौर से चिकन टिक्का पास्ता और मलाई वेजी रिसोट्टो आदि शेफ नताशा पकाती हैं.

फूड ट्रक बिजनेस की हेड अर्चना सिंह बताती हैं कि, ‘हम सातों दिन काम करते हैं. 6 दिन बिजनेस पर ध्यान देते हैं और 7 वें मंदिर, मस्जिद, चर्च और पूजा घरों के बाहर फ्री में खाना बांटते हैं.’ बिजनेस को देखते हुए और लोगों की डिमांड पर हैदराबाद और चेन्नै में भी इसकी ब्रांच ओपन करने की प्लानिंग कर रहे हैं.

 
 

You may also like

रस्सी कूदने के है कई फायदे, बॉडी में होते है ऐसे बदलाव

रस्सी कूदना सबसे आसान और बेहतर कसरत माना