छेड़खानी में भीड़ के हाथों पिटे थे लालू के दोनों लाल: सुशील मोदी

पटना। बिहार के उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्‍वी यादव ‘खुलासा मियां’ कहते हैं। इस बार का उनका खुलासा तेजस्‍वी यादव व तेज प्रताप यादव से जुड़े छेड़खानी के एक मामले का है। बकौल सुशील मोदी, दोनों भाइयों को दिल्‍ली में तीन जगह पहली जनवरी 2008 को न्‍यू ईयर पार्टियों के दौरान भीड़ ने लड़कियों से छेड़खानी करने के कारण पीटा था। सुशील मोदी कहते हैं कि छेड़खानी की घटना में जिनके नाम आए, वे आज बालिकाओं के हमदर्द होने की नौटंकी कर रहे हैं।छेड़खानी में भीड़ के हाथों पिटे थे लालू के दोनों लाल: सुशील मोदी

एक अन्‍य ट्वीट में सुशील मोदी ने लालू परिवार पर तंज कसते हुए कहा कि जिस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की दो पीढ़ियां आरोपी हों, वह जनता का भला क्या करेगी?  सुशील मोदी के ट्वीट के अनुसार पहली जनवरी 2008 को दिल्ली के अशोका होटल, कनाट प्लेस और महरौली फार्म हाउस पर एक ही दिन में तीन स्थानों पर नववर्ष की पार्टियों में लड़कियों पर फब्तियां कसने और उनसे छेड़छाड़ करने के चलते अज्ञात लोगों ने लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों पर हमला कर दिया था। इस घटना में जख्मी तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव को अस्पताल में प्राथमिक उपचार कराना पड़ा था। उस समय दोनों भाइयों का बचाव करने वाले निजी सुरक्षा अधिकारी की सर्विस रिवाल्वर गायब हो गई थी।

सुशील मोदी कहते हैं कि जिनके नाम छेड़खानी की घटना में आए, ये, वे आज बालिकाओं के हमदर्द होने की नौटंकी कर रहे हैं। रेलवे के होटल के बदले करोड़ों रुपये की जमीन लेने के मामले में पटियाला हाउस कोर्ट द्वारा लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव समेत 14 लोगों को पूछताछ के लिए समन जारी किए जाने पर प्रतिक्रिया में सुश्‍ील मोदी ने एक अन्‍य ट्वीट किया। इसमें उन्‍होंने कहा कि चारा घोटाला से लेकर मॉल-मिट्टी-जमीन घोटाला और बेनामी सम्पत्ति बनाने के आरोपों में लालू परिवार के छह सदस्यों से पूछताछ हो चुकी है। उन्‍होंने सवाल किया कि जिस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की दो पीढ़ियां आरोपी हों, वह जनता का भला क्या करेगी?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के