कानपुर के मेडिकल कालेज में आइसीयू का AC फेल होने से हुई पांच मरीजों की मौत

कानपुर। उमस भरी गर्मी में कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल (जीएसवीएम) कालेज के एलएलआर अस्पताल (हैलट) के एसी काम नहीं कर रहे हैं। मेडिसिन आइसीयू के एसी प्लांट फेल होने से 24 घंटे के अंदर पांच मरीजों की मौत हो गई। गंभीर मरीजों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। एसी प्लांट की मरम्मत में लापरवाही के कारण पहले भी सर्जरी और न्यूरो सर्जरी आपरेशन थियेटर के एसी खराब हो चुके हैं। मामला जीएसवीएम मेडिकल कालेज के प्राचार्य तक जा चुका है, बावजूद इसके न अस्पताल के अफसर चेते और न ही प्राचार्य ने सुध ली। इससे समस्या और विकराल होकर आज इतने भयावह रूप में सामने आई।कानपुर के मेडिकल कालेज में आइसीयू का AC फेल होने से हुई पांच मरीजों की मौत

एसी प्लांट पांच दिनों से गड़बड़ 

मेडिसिन विभाग के इंटेंसिव केयर यूनिट (आइसीयू) के दोनों एसी प्लांट पांच दिनों से गड़बड़ थे। सिस्टर इंचार्ज की लिखित शिकायत को भी गंभीरता से नहीं लिया गया। बुधवार रात एसी ने काम करना बंद कर दिया। गर्मी एवं उमस बढऩे पर आइसीयू की खिड़कियां और दरवाजे खोल दिए गए। मरीजों को राहत देने के लिए तीमारदार हाथ से पंखे झुलाते रहे। बुधवार रात 12 बजे से गुरुवार शाम पांच बजे तक पांच मरीजों की मौत हो गई। इनमें दो मरीजों की मौत बुधवार रात में ही हुई थी जिन्हें परिवारीजन लेकर चले गए। गुरुवार सुबह हरदोई के संडीला निवासी रसूल बख्श (58) व उन्नाव के एक मरीज ने दम तोड़ दिया। आइसीयू के बेड 12 पर भर्ती आजमगढ़ निवासी मुरारी (56) की शाम 5.20 बजे मौत हो गई।  

एसी फेल होने से मौतें नहीं

मेडिसिन आइसीयू प्रभारी सौरभ अग्रवाल ने बताया कि आइसीयू में गंभीर मरीज ही आते हैं। एसी फेल होने की वजह से मौतें नहीं हुई हैं। हालांकि आइसीयू के एसी प्लांट कई दिनों से खराब हैं। शिकायत के बाद भी ध्यान नहीं दिया गया। जब बुधवार रात प्लांट ने काम करना बंद कर दिया तब सुबह मरम्मत का कार्य शुरू हुआ। मेडिकल कालेज के जेई विद्युत विनय अवस्थी ने बताया कि आइसीयू में दो एसी प्लांट लगे हैं। बुधवार को ठेकेदार के कर्मचारी आए थे। खराब मोटर मरम्मत के लिए ले गए थे। सुबह मोटर की मरम्मत की गई लेकिन, लगाते ही मोटर जल गई। शुक्रवार सुबह तक प्लांट ठीक होने की उम्मीद है। 

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मौत का सौदागर, गबन का खिलाड़ी, बीएस तिवारी

क्या बीएस तिवारी के आगे योगी, श्रीकांत शर्मा