पाकिस्तान: संसद का पहला सत्र शुरू, संभावित मंत्रियों के नाम आए सामने

पाकिस्तान की नवनिर्वाचित संसद के 331 सदस्यों को शपथ दिलाने के साथ सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू करने और नई सरकार को शक्तियां सौंपने के लिए सोमवार को पहला सत्र शुरू हुआ. बता दें कि आने वाली 18 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे.

पिछली नेशनल असेंबली के अध्यक्ष अय्याज सादिक ने 15वीं संसद के सत्र की अध्यक्षता की और 342 सदस्यीय निचले सदन में नए सदस्यों को शपथ दिलाई.

राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने सुबह दस बजे संसद भवन में निचले सदन नेशनल असेंबली का पहला सत्र बुलाया. इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के आम चुनावों में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के 19 दिन बाद संसद सत्र बुलाया गया.

संभावित प्रधानमंत्री और पीटीआई प्रमुख इमरान खान तथा पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) अध्यक्ष शहबाज शरीफ, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) प्रमुख बिलावल भुट्टो जरदारी और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली समेत अन्य प्रतिष्ठित नेता शपथ ग्रहण करने के लिए असेंबली में मौजूद थे.

अध्यक्ष ने घोषणा की कि सदन के नए अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव 15 अगस्त को होगा. पीटीआई ने अध्यक्ष के लिए असद कैसर को नामित किया है जबकि विपक्ष ने इस पद के लिए विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार के तौर पर पीपीपी के खुर्शीद शाह को नामित किया है.

उत्तर कोरियाई नेता ‘किम जोंग उन’ और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ‘मून जेई इन’ के मुलाकात के मायने : देखें डा. रहीस सिंह का ये वीडियो

संसद का पहला सत्र राष्ट्रगान के साथ शुरू हुआ, खान सदन के नेता की कुर्सी के नजदीक पहली पंक्ति में बैठे दिखे. पीटीआई ने 25 जुलाई को हुए चुनावों में 116 सीट जीती हैं और सबसे बड़ी पार्टी के रूप में सामने आई है. नौ निर्दलीय सदस्यों के शामिल होने के बाद उसकी सीटों की संख्या 125 पर पहुंच गई.

पार्टी के सूत्रों ने बताया कि मंत्रिमंडल की सूची अभी तय नहीं हुई है लेकिन इस बात को लेकर आम सहमति है कि शाह महमूद कुरैशी नए विदेश मंत्री और परवेज खट्टक नए गृह मंत्री होंगे. असद उमर को वित्त मंत्रालय की कमान मिलने की संभावना है.

खान वित्त मामलों के सलाहकार के तौर पर प्रतिष्ठित कारोबारी अब्दुल रज्जाक दाऊद को नियुक्त कर सकते हैं. दाऊद पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ के मंत्रिमंडल में भी शामिल रहे थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

चीन का कर्ज बढ़कर 2,580 अरब डॉलर हुआ

चीन का बढ़ता कर्ज अब 2,580 अरब डॉलर