हरियाणा में शहरों से फीडबैक ले अब गांवों में उतरेंगे मनोहर, 8 से गांव चलो अभियान

चंडीगढ़। शहरों में रोड-शो के जरिये कल्याणकारी योजनाओं पर लोगों की फीडबैक लेने के बाद अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल गांवों का रुख करेंगे। 8 जून से ‘मुख्यमंत्री से सीधी बात’ कार्यक्रम की शुरुआत करने जा रहे सीएम न केवल ग्रामीणों से सीधा संवाद करेंगे, बल्कि सरकार की आगामी योजनाएं भी काफी कुछ हद तक ग्रामीणों के सुझावों पर निर्भर करेंगी।हरियाणा में शहरों से फीडबैक ले अब गांवों में उतरेंगे मनोहर, 8 से गांव चलो अभियान

कार्यक्रम की शुरूआत मुख्यमंत्री कैथल के पुंडरी विधानसभा क्षेत्र के गांवों कौल, पाई, ढांड और हाबड़ी से ग्रामीणों से करेंगे जो सभी हलकों को कवर करने के बाद ही खत्म होगा। इस कार्यक्रम के जरिये जनता और सरकार के बीच सीधा संवाद स्थापित करने की कोशिश होगी। इसके अलावा ग्रामीणों को विकास एवं जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देने के साथ ही मौके पर उनकी समस्याओं का निवारण किया जाएगा। कार्यक्रम के अंतर्गत मुख्यमंत्री हर वर्ग के लोगों यथा किसान, व्यापारी, उद्योगपति, कर्मचारी और युवाओं से सीधा संवाद करेंगे।

मिशन-2019 की तैयारी में जुटी भाजपा ने प्रादेशिक स्तर पर कई अभियान छेड़ रखे हैं। पूरे प्रदेश में 11 जून तक आठ तरह के अभियान चलाए जा रहे हैं। बुद्धिजीवियों से जहां अंत्योदय भावना और सबका साथ-सबका विकास सहित विभिन्न योजनाओं पर राय जानी गई, वहीं विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से उनके अनुभव साझा किए। 6 से 8 जून तक मोटरसाइकिल यात्राओं के जरिये केंद्र सरकार की योजनाओं को आमजन तक पहुंचाया जाएगा। 9 से 11 जून तक बूथ संपर्क अभियान चलेगा ताकि लोगों को पार्टी नीतियों से अवगत कराया जा सके।

सीएम का पांचवां राज्य स्तरीय दौरा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल पांचवी बार हरियाणा के दौरे पर निकल पड़े हैं। जिला स्तरीय दौरे, विधानसभा स्तरीय रैलियां और जिला प्रवास के बाद मुख्यमंत्री ने विभिन्न क्षेत्रों में जाकर बूथ स्तरीय कार्यक्रमों में भागीदारी की। साथ ही मुख्यमंत्री ने अपने निवास पर भी एक साथ चार-चार जिलों के पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ चर्चा कर उनसे ग्राउंड रिपोर्ट ली। इसके बाद विभिन्न जिलों में रोड शो कर लोगों से सीधा संवाद किया। अब ग्रामीणों के बीच जाने की उनकी तैयारी को विधानसभा चुनाव के लिए कमर कसने से जोड़कर देखा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के