‘हार की जीत’

धोनी को हार की वजह बताने वाले विराट यही नहीं रूके. उन्होंने आगे ये भी कहा कि जो हो रहा है वो भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा हो रहा है. विराट के मुताबिक, “हर कोई धोनी को गेंद पर झपटते देखना चाहता है और ऐसा हो रहा है. धोनी गेंद को बेहतरीन स्ट्राइक कर रहे हैं. ये भारतीय क्रिकेट के लिए एक बेहतर संकेत हैं.” धोनी इस सीजन 169. 58 की स्ट्राइक रेट से गेंद पर टूट रहे हैं, जो कि उनके IPL करियर का सबसे बेस्ट फीगर है. धोनी के इस रंगरूप को आप चेन्नई फीवर भी मान सकते हैं क्योंकि पिछले सीजन जब वो पुणे सुपरजाइंट की ओर से खेल रहे थे तब उनका स्ट्राइक रेट सिर्फ 116 का था जो कि उनके IPL करियर का सबसे खराब फीगर था.

धोनी का धमाल, विरोधी बेहाल

पुणे में खेले RCB के खिलाफ मुकाबले में धोनी ने 23 गेंदों पर नाबाद 31 रन बनाए, जिसमें 3 छक्के और महज 1 चौका शामिल रहा. इस पारी में जमाए 3 छक्कों के साथ IPL 2018 में जड़े उनके कुल छक्कों की संख्या 27 के रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई है. IPL के किसी भी सीजन में धोनी ने पहले इतने छक्के नहीं जड़े थे. अब जरा एक और आंकड़ा देखिए, IPL के एक सीजन में धोनी ने सबसे ज्यादा 461 रन साल 2013 में बनाए. IPL-11 में अब तक खेले 10 मुकाबलों में उनके बल्ले से 165.89 की स्ट्राइक रेट और 3 अर्धशतक के साथ 360 रन निकल चुके हैं. इसका मतलब है कि इस बार वो IPL में सर्वाधिक रन का अपना पर्सनल रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं, जिससे वो महज 102 रन दूर हैं.

RCB के लिए धोनी बने दीवार

IPL-11 में CSK और RCB के बीच 2 मुकाबले हो चुके हैं और कमाल की बात है कि दोनों में ही RCB की जीत की राह रोड़ा धोनी ही बने हैं. इससे पहले बेंगलुरु में खेले मैच में धोनी ने RCB के 205 रन के टारगेट का पीछा करते हुए 34 गेंदों पर नाबाद 70 रन जड़े थे, जिसमें 7 छक्के और 1 चौका शामिल था.