तमिलनाडु की वेल्लोर लोकसभा क्षेत्र से भारी मात्रा में नकदी बरामद होने के बाद यहां मतदान रद्द होने की आशंका है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में निर्वाचन आयोग राष्ट्रपति के पास पहुंचा है और सिफारिश की है. इसमें बताया गया है कि चुनाव में भारी मात्रा में पैसे का प्रयोग किया गया है.

चूंकि लोकसभा चुनाव की अधिसूचना राष्ट्रपति जारी करते हैं, ऐसे में चुनाव रद्द करना भी उन्हीं के अधिकार क्षेत्र में आता है. बता दें कि द्रमुक (डीएमके) उम्मीदवार के कार्यालय से कुछ दिन पहले कथित रूप से भारी मात्रा में नकदी बरामद होने के बाद ऐसा फैसला लिए जाने की आशंका है. बता दें कि वेल्लोर सीट पर 18 अप्रैल को वोटिंग होनी है.

विधानसभा सीट पर नहीं हुआ फैसला

मायावती के बाद अब सिद्धू ने मुस्लिमों से कह दी ये बड़ी बात, कहा- आप एकजुट रहें तो…

हालांकि. इस लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले अंबुर और गुदियत्तम सीट पर हो रहे विधानसभा उपचुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है. रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति भवन के पास निर्वाचन आयोग का प्रपोजल पहुंच गया है. बताया जा रहा है कि इसे कानून मंत्रालय को भेजा जाएगा.

पहले भी इसी ले चुका है इस तरह का फैसला

बता दें कि यह पहला मौका न हीं है जब तमिलनाडु में निर्वाचन आयोग ने इस तरह का कड़ा फैसला लिया है. इससे पहले साल 2017 में डॉ. राधाकृष्णन नगर में हुए विधानसभा चुनाव पर दो बार निर्वाचन आयोग ने इसी तरह कड़ा फैसला लिया था. वहीं, अप्रैल 2016 में विधानसभा चुनाव के दौरान दो सीटों से कैस की बरामदगी के बाद वहां चुनाव कैंसिल कर दिया गया था.