जितनी दौलत कमाई, डाटा लीक ने पांच दिन में डुबो दी

- in कारोबार

फेसबुक डाटा लीक को लेकर उठा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। कंपनी के संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने गुरुवार को इस मामले में माफी भी मांग ली थी, लेकिन इसके बाद भी इस विवाद पर देश और दुनिया में चर्चा जारी है। इससे न सिर्फ फेसबुक के कारोबार पर असर पड़ा है, बल्कि पिछले एक हफ्ते में मार्क जकरबर्ग की दौलत करीब 53 हजार करोड़ रुपए तक कम हो चुकी है।

फेसबुक की स्थापना के पहले आठ साल में उन्होंने इतनी ही दौलत कमाई थी। डाटा लीक प्रकरण उजागर होने के बाद से जकरबर्ग की कंपनी फेसबुक और उनकी निजी दौलत में गिरावट का दौर जारी है।

‘ब्लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्स’ के मुताबिक, 18 तारीख को उनकी नेटवर्थ 74 अरब डॉलर थी। डाटा लीक का मामला सामने आने के बाद इस कारोबारी हफ्ते के पहले दिन सोमवार से अब तक यह घटकर 67.3 अरब डॉलर पर आ गई है। इस तरह महज पांच दिनों के भीतर उन्हें करीब 53 हजार करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।

मार्क जकरबर्ग ने 2004 में फेसबुक की शुरुआत की थी। अपनी इस सोशल मीडिया कंपनी की शुरुआत करने के बाद 2012 में जकरबर्ग की नेटवर्थ करीब 53 हजार करोड़ रुपए पर पहुंची थी। लेकिन डाटा लीक की वजह से जितनी दौलत उन्होंने पहले आठ साल में कमाई थी, वह महज पांच दिन में ही डूब गई।

एक महीने के उच्च स्तर पर पहुंचे सोने के दाम, चांदी भी 50 रुपये चढ़ी

फेसबुक को भी नुकसान –

इस विवाद का नुकसान सिर्फ मार्क जकरबर्ग को ही नहीं, बल्कि फेसबुक को भी हुआ है। इसके चलते कंपनी के 3.8 लाख करोड़ रुपए डूब गए हैं। करोबारी हफ्ते के शुरुआती दिन यानी सोमवार को कंपनी की मार्केट वैल्यू 34,93,295 करोड़ रुपए थी। शुक्रवार को यह घटकर 31,13,565 करोड़ रुपए पर आ गई।

डाटा लीक मामले में जकरबर्ग की पोस्ट-

डाटा लीक मामले को लेकर मार्क जकरबर्ग ने फेसबुक पर एक पोस्ट भी लिखा है। इसमें उन्होंने लिखा, ‘लोगों के डाटा को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है, अगर हम इसमें असफल होते हैं तो यह हमारी गलती है। हमने इसको लेकर पहले भी कई कदम उठाए थे, हमसे कई गलतियां भी हुईं, लेकिन उनको लेकर काम किया जा रहा है। फेसबुक को मैंने शुरू किया था, इसके साथ अगर कुछ भी होता है तो इसकी जिम्मेदारी मेरी ही है। हम अपनी गलतियों से सीखने की कोशिश करते रहेंगे, हम एक बार फिर आपका विश्वास जीतेंगे।’

You may also like

बड़ी खुशखबरी: देश के 3 बड़े बैंकों के विलय से ग्राहकों को मिलेंगे ये फायदे

बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक