Home > ज़रा-हटके > फटे गद्दे के कारण रातोंरात लखपति बन गया यह भिखारी, यूं मिले 40 लाख रुपए

फटे गद्दे के कारण रातोंरात लखपति बन गया यह भिखारी, यूं मिले 40 लाख रुपए

किसी भी इंसान की जिंदगी में किस्मत का काफी बड़ा रोल होता है। अगर किस्मत का साथ हो, तो इंसान देखते ही देखते सफल हो जाता है और उसकी लाइफ बदल जाती है। अब जरा इस भिखारी की ही कहानी पढ़ लीजिए। ये ऐसा मामला है, जिसे पढ़कर आपको हंसी भी आएगी और ताज्जुब भी होगा। एक भिखारी, जो बन गया लखपति…

फटे गद्दे के कारण रातोंरात लखपति बन गया यह भिखारी, यूं मिले 40 लाख रुपए

ये वाकया उत्तराखंड के हरिद्वार के रानीपुर कोतवाली क्षेत्र का है। यहां एक ऐसा अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसमें एक भिखारी की किस्मत चमक गई और एक शख्स की जिंदगी बर्बाद हो गई। खबर के मुताबिक, यहां रहने वाले एक पिता और बेटा इन दिनों हर तरफ एक भिखारी को ढूंढ रहे हैं। दरअसल, अपने पिता को बिना बताए इस बेटे ने अपने घर से एक फटा गद्दा लाकर कनखल स्थित दरिद्र भंजन मंदिर के बाहर बैठे एक भिखारी को दिया था।

जब बाद में पिता ने अपने बेटे से गद्दे के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो गद्दा उसने एक भिखारी को दान में दे दिया। ये सुनते ही पिता ने बेटे को डांटना शुरू कर दिया। दरअसल, पिता अपनी सारी सेविंग उस गद्दे के अंदर छिपाकर रखते थे। जिस गद्दे को बेटे ने भिखारी को दिया, उसमें 40 लाख रुपए रखे हुए थे। ये सुनते ही दोनों तुरंत उस मंदिर में पहुंचे, जहां वो भिखारी बैठा था। लेकिन तब तक वो वहां से चला गया था।

बीएसएफ ने मार गिराया पाक घुसपैठिया, एक रहा भागने में सफल

खबर है कि इस घटना के तीसरे दिन दोनों ने एक मंदिर के बाहर उस भिखारी को ढूंढ निकाला। लेकिन यहां किस्मत ने एक और बार पलटी खाई। दरअसल, उस भिखारी ने चंद रुपयों में वो गद्दा किसी और भिखारी को बेच दिया था।

जब इस खबर के बारे में कनखल थाने में पता किया गया तो वहां के इंस्पेक्टर ने बताया कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं है। लेकिन जरा भिखारी के बारे में सोचिए, उसकी किस्मत कैसे रातोंरात बदल गई।

Loading...

Check Also

कुछ इस तरह ये बाबा करता था महिलाओं के शरीर की शुद्धि, पूरी खबर पढ़कर डर जाएगी महिलाएं

आसाराम, गुरमीत राम रहीम, दाती महाराज और आशू महाराज के बाद एक और बाबा रेप …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com