DSP पर गोली चलाने वाले सिपाही की जेल में मौत, पत्नी ने कहा-हत्या कर दी

- in बिहार, राज्य

बेगूसराय। पुलिस लाइन के पुलिस उपाधीक्षक सह मेजर पर गोली चलाने के आरोप में जेल में बंद सिपाही गौरी शंकर सिंह की शुक्रवार को हृदयाघात के कारण मौत हो गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा। घटना की सूचना उसके परिजन को दी गई। सिपाही की पत्नी ने नगर थाने में साजिशन हत्या की शिकायत दर्ज कराई है।

जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह अचानक गौरी शंकर सिंह की तबीयत बिगड़ गई। जेल प्रशासन ने आनन-फानन इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा, परंतु रास्ते में उसकी मौत हो गई। घटना की सूचना पाकर पत्नी रीना देवी, पुत्र फाइटर कुमार सिंह, निलेश कुमार सिंह एवं अन्य परिजन बेगूसराय सदर अस्पताल पहुंचे। पत्नी रीना देवी ने नगर थाने में आवेदन देकर अपने पति की साजिशन हत्या की शिकायत दर्ज कराई है।

थाने को दिए आवेदन में पीडि़ता ने बताया कि सात मार्च को बेगूसराय पुलिस लाइन में अररिया लोकसभा उपचुनाव को लेकर ड्यूटी बांटी जा रही थी। तभी उनके पति की किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। इसके बाद पुलिस उपाधीक्षक दिनेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस मेंस एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष सिपाही राकेश यादव, महेश प्रसाद, संतोष कुमार सिंह, शिव शंकर कुमार, सुनील पासवान, मंत्री बिहार पुलिस एसोसिएशन, हवलदार मुजम्मिल खान, आरक्षी निरीक्षक सुरेश सिंह आदि ने मिलकर पति के हाथ-पैर बांध तथा हथकड़ी लगाकर जमीन पर पटक दिया और जमकर मारपीट की। इसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया।

रीना देवी ने बताया कि जब वह पति से मिलने जेल गई थी तो उन्होंने कहा था कि उनकी हत्या की साजिश रची जा रही है। शुक्रवार को उन्हें सूचना मिली कि पति की मौत हो गई। इधर नगर थानाध्यक्ष ने बताया कि मजिस्ट्रेट की निगरानी में शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है।

जेल अधीक्षक राजीव कुमार ने बताया कि शुक्रवार की सुबह गौरी शंकर सिंह की तबीयत बिगड़ गई थी। उन्हें सदर अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उनकी मौत हो गई। एसपी आदित्य कुमार ने बताया कि सिपाही की पत्नी के आरोप बेबुनियाद हैं।

You may also like

सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या मामले में इसी हफ्ते आ सकता है ये बड़ा फैसला

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले से जुड़े एक अहम केस में