Home > धर्म > क्या आपको पता है हर महिला को ससुराल में मिलते हैं ये 5 महत्वपूर्ण अधिकार, जिसे पति भी नहीं छीन सकता

क्या आपको पता है हर महिला को ससुराल में मिलते हैं ये 5 महत्वपूर्ण अधिकार, जिसे पति भी नहीं छीन सकता

जैसा की हम जानते है की हिन्दू धर्म में शादी के बाद बेटियों को बिदा होकर आपने ससुराल चली जाती है और वहीँ उनका अपना घर होता है और इसीलिए शादी होने के बाद हर महिला को सुसराल में कुछ अधिकार मिलते हैं जिन्हें खुद  महिला का पति भी नहीं छीन सकता। आपकी जानकारी के लिए बता दे हाईकोर्ट एडवोकेट संजय मेहरा ने बताया कि अलग-अलग कानून महिलाओं को अलग-अलग अधिकार देते हैं। यदि इन अधिकारों से किसी महिला को वंचित रखा जा रहा है तो इसके लिए सबसे पहले महिला को  पुलिस में इसकी शिकायत कर सकती है।

यदि वे थाने नहीं जा पा रही तो ईमेल के जरिए भी अपनी शिकायत पुलिस तक पहुंचा सकती है। यदि पुलिस भी इस मामले में सुनवाई न करे तो कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जा सकता है। आज हम आपको ऐसे ही 5 अधिकारों के बारे में बता रहे हैं, जो भारत में रहने वाली हर महिला को ससुराल में मिलते हैं।

जब भी किसी लड़की की शादी होती है तो उसे कई सारे गिफ्ट और पैसे मिलते है जिनपर सिर्फ और सिर्फ उसका अधिकार होता है जिसे स्त्रीधन कहा जाता है।

महिला की जब किसी पुरुष से  शादी होती है तो ना केवल उसका अधिकार अपने पति पर होता है बल्कि पति के घर पर भी उसका उतना ही अधिकार होता है जितना उसके पति का।

हिन्दू धर्म में महिला को शादी के बाद कमिटेड रिलेशनशिप का अधिकार मिलता है जिसका मतलब होता है बिना तलाक के कोई भी हिन्दू हसबैंड अपनी पत्नी के अलावा और किसी अन्य महिला से सम्बन्ध नहीं बना सकता है।

रामायण का चौंकाने वाले रहस्य का खुलासा, वैज्ञानिकों ने दिए राम सीता जी के होने के सबूत

शादी के बाद हर महिला को आपने ससुराल में पूर्व स्वाभिमान के साथ रहने का अधिकार मिलता है उसे किसी भी प्रकार का मेंटल या फिजिकल टार्चर नहीं क्र सकता।

यदि शादी के बाद पत्नी अपना खर्च उठा सकती है तब टी ठीक है नहीं तो शादी के बाद हर पत्नी का उसके पति की संपत्ति पर पूरा अधिकार होता है और वो उसे हर तरह से फाइनेंसियल सपोर्ट करेगा।

Loading...

Check Also

तुलसी विवाह विशेष : जानिए, तुलसी पूजन की विशेष विधि

तुलसी विवाह विशेष : जानिए, तुलसी पूजन की विशेष विधि

देवउठनी एकादशी के बाद श्रीहरि सबसे पहली प्रार्थना तुलसी की ही सुनते हैं। अतः तुलसी …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com