बदला लेने आई नागिन ने ऐसे तान दिया फन कि मजदूर का कलेजा मुंह में आ गया

पानीपत-खटीमा नेशनल हाइवे पर पुलिया के निर्माण के लिए मिट्टी का खदान करते समय एक कोबरा नाग जेसीबी के पंजे में फंसकर कट गया, लेकिन तभी बदला लेने पहुंची नागिन जो किया उसे देखकर मजदूर का कलेजा मुंह में आ गया।

बदला लेने आई नागिन ने ऐसे तान दिया फन कि मजदूर का कलेजा मुंह में आ गयाकोबरा की मौत देखकर प्रतिशोध में फनफनाई नागिन ने जेसीबी पर कब्जा कर लिया। सामने साक्षात मौत देख जेसीबी चालक व साथ बैठे मजदूर का कलेजा मुंह में आ गया। दोनों ने किसी तरह जेसीबी से कूदकर अपनी जान बचाई।

24 घंटे तक नागिन वहीं बैठी फुंकारती रही। इस दौरान वहां तमाशबीनों का जमावड़ा लगा रहा। ठाकुरद्वारा से बुलाये गए सपेरे ने काफी मशक्कत के बाद नागिन को अपने वश में किया। ढकिया गुलाबों से आगे कुछ मीटर की दूरी पर ग्राम रायपुरखुर्द में एनएच वाईपास मार्ग का निर्माण कार्य चल रहा है। वहां एक पुलिया का निर्माण भी प्रस्तावित है। इसके लिए जेसीबी से मिट्टी के खदान का कार्य किया जा रहा है। ग्राम बांसखेड़ा के पूर्व प्रधान रियासत अली की जेसीबी मशीन इस कार्य में लगाई गई है।

शुक्रवार की दोपहर मिट्टी का खदान करते समय नहर पटरी से कई सांप व गोये आदि निकले। इसी बीच जेसीबी के पंजे में फंसकर एक पांच फुट का कोबरा कट गया। चालक थाना ठाकुरद्वारा ग्राम करनपुर डिलारी निवासी वेदप्रकाश ने मरे हुए नाग को एक ओर नहर किनारे डाल दिया।

इसके बाद वह जेसीबी पर बैठकर खाना खाने की तैयारी करने लगा। उसने रोटी का पहला टुकड़ा ही तोड़ा था कि अचानक उसकी आंखों के सामने मौत मंडरा गई। महज दो हाथ की दूरी पर नागिन फन फैलाये जेसीबी पर तनतनाये खड़ी थी। गुस्साई नागिन हमलाकर पाती, इससे पहले ही वेदप्रकाश ने जेसीबी से कूद लगा दी। साथ ही जेसीबी पर बैठा श्रमिक भी कूद पड़ा।

नागिन की दहशत से कुछ देर उनकी सांसे अनियंत्रित रही। उन्होंने इस बात की जानकारी राह चलते लोगों को दी। यह खबर आस-पास के गांवो तक फैल गई। देखते ही देखते वहां तमाशबीनों का जमावड़ा लग गया। लोगों ने जेसीबी पर ईंट पत्थर फेंककर नागिन को भगाने का प्रयास किया लेकिन वह टस से मस नहीं हुई।

जेसीबी स्वामी रियासत ने शिवलालपुर, काशीपुर व रामनगर से सपेरों को बुलवाया, लेकिन नागिन की फुंकार के चलते कोई उसे पकड़ने का साहस नहीं जुटा सका। शनिवार को दोपहर बाद जनपद मुरादाबाद थाना ठाकुरद्वारा के ग्राम करनपुर डिलारी निवासी किशन पुत्र राम सिंह नागिन को पकड़ने पहुंचा।

करीब डेढ़ घंटे तक आंख मिचौली करने के बाद किशन ने नागिन को कब्जे में कर लिया। उसने बताया कि जेसीबी से कटा कोबरा प्रजाति का नाग पांच फुट लंबा था। जबकि उसकी मादा साढ़े चार फुट की है। नागिन के पकड़े जाने के बाद ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। पूर्व ग्राम प्रधान रियासत ने कोबरा पकड़ने वाले किशन को पांच हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया है। वह पकड़ी गई नागिन को अपने साथ ले गया है।

रायपुरखुर्द में कोबरा प्रजाति की नागिन को पकड़ने वाला किशन बेहद खतरनाक सांपों के साथ अठखेलियां करने के लिए प्रख्यात है। सांपों को पकड़ने और उनका जहर मथने में उसे महारत हासिल है। काशीपुर में मां मंशा देवी की शोभायात्रा के दौरान सजीव झांकी में सांपों के साथ गलबहियां करते देख दर्शक अचंभित व रोमांचित हो उठते हैं।

किशन कांच के बॉक्स में विभिन्न प्रजाति के सांपों को अपने बदन पर लपेटकर उनके साथ हैरतअंगेज करतब करते देखा जाता है। किशन ने बताया कि वह सांपों के आचरण व व्यवहार आदि से अच्छी तरह वाकिफ है और पिछले 20 वर्षो से सांप पकड़ने के धंधे से जुड़ा है।

You may also like

इलाहाबाद में एनसीसी ट्रेनिंग कैंप में खाना खाने से 37 कैडेट की बिगड़ी हालत

इलाहाबाद। केपी इंटर कालेज में चल रहे एनसीसी (नेशनल