भीषण गर्मी के चलते इलाहाबाद में चार करोड़ यूनिट पहुंची बिजली की डिमांड

- in उत्तरप्रदेश

इलाहाबाद : भीषण गर्मी के कारण बिजली की मांग भी बढ़ गई है। संगमनगरी में इन दिनों चार करोड़ यूनिट बिजली की डिमांड हो गई है। जबकि मार्च में यह डिमांड पौने दो करोड़ यूनिट ही थी। डिमांड बढ़ने के कारण ही शहर में अघोषित विद्युत कटौती भी की जा रही है। इससे लोग आजिज आ चुके हैं। कहीं ट्रांसफॉर्मर में गड़बड़ी तो कहीं लोड बढ़ने से आपूर्ति ठप हो गई। सिविल लाइंस, सलोरी, करेली, अल्लापुर, मुट्ठीगंज आदि इलाके में दोपहर के दौरान तीन घंटे तक कटौती हुई। इस दौरान लोग पसीने से तर हो गए।भीषण गर्मी के चलते इलाहाबाद में चार करोड़ यूनिट पहुंची बिजली की डिमांड

गर्मी बढ़ने से बिजली की मांग लगभग दो गुना हो गई है। मार्च में जहां एक करोड़ अस्सी लाख यूनिट बिजली की डिमांड थी तो अब यह मांग बढ़कर लगभग चार करोड़ यूनिट रोज हो गई है। डिमांड के मुताबिक सप्लाई ही नहीं हो पा रही है। बताते हैं कि लोड बढ़ते ही बिजली की आपूर्ति ठप कर दी जाती है। विभागीय अफसर लोड बढ़ने पहले ट्रांसफॉर्मर फुंकने से बचाने की कोशिश करते हैं। इसके कारण घंटे भर के लिए उस फीडर की आपूर्ति फौरन रोक दी जाती है जहां लोड बढ़ जाता है। धूमनगंज के झलवा, प्रीतमनगर, करेली, खुल्दाबाद, चौक, अतरसुइया, मीरापुर, मुट्ठीगंज, कीडगंज, रामबाग, अल्लापुर, दारागंज, गोविंदपुर, तेलियरगंज, जार्जटाउन में भी कई घंटे की कटौती की गई।

मुख्य अभियंता एमसी शर्मा का कहना है कि मांग के मुताबिक आपूर्ति की पूरी कोशिश की जा रही है। ट्रिपिंग पर नियंत्रण के लिए वाराणसी से भी अफसरों की टीम आई है। कई स्थानों पर निगरानी भी बढ़ाई गई है। जहां भी लोकल फॉल्ट की शिकायत आती है वहां फौरन उसे दूर कराने का प्रयास होता है। रात के समय लोकल फॉल्ट दूर करने के लिए अलग टीमें लगाई गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बड़ा खुलासा: अखिलेश सरकार में हुआ 97 हजार करोड़ रुपए का घोटाला

लखनऊ: नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की रिपोर्ट में समाजवादी