US में दो विमानों के टकराने से हुई दिल्ली की युवती की मौत

- in दिल्ली, राज्य

नई दिल्ली। अमेरिका के फ्लोरिडा प्रांत में मंगलवार को एक फ्लाइट स्कूल के दो छोटे ट्रेनिंग विमान हवा में टकरा गए। इस हादसे में 19 वर्षीय भारतीय युवती निशा सेजवाल समेत तीन लोगों की मौत हो गई। निशा दिल्ली की रहने वाली थीं। यह हादसा मियामी के पास एवरग्लेड्स में हुआ। आशंका है कि दोनों विमान उस समय एक-दूसरे से टकरा गए जब उन्हें प्रशिक्षु छात्र उड़ा रहे थे। दोनों विमान पाइपर पीए-34 और सेसना 172 मियामी के डीन इंटरनेशनल फ्लाइट स्कूल के थे। वर्ष 2007 से 2017 के दौरान इस स्कूल के दो दर्जन से ज्यादा विमान दुर्घटना का शिकार हुए।US में दो विमानों के टकराने से हुई दिल्ली की युवती की मौत

फ्लोरिडा की पुलिस ने हादसे में तीन लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। हादसे में एक और व्यक्ति के मारे जाने की आशंका जताई गई है। उसकी तलाश की जा रही है। निशा सेजवाल के अलावा अन्य मृतकों की पहचान जॉर्ज सांचेज (22) और राल्फ नाइट (72) के रूप में की गई है। दो शव एक विमान के मलबे से बरामद हुए, जबकि तीसरा शव दूसरे विमान के पास पाया गया। डेनियल मिरल्स नाम के एक चश्मदीद ने कहा कि उसने आसमान में विमानों को टकराते देखा। उसने मलबा गिरने का वीडियो भी बनाया।

निशा ने पिछले साल ही लिया था दाखिला1निशा के फेसबुक पेज से पता चला कि वह दिल्ली की रहने वाली थीं। उन्होंने फ्लाइट स्कूल में पिछले साल सितंबर में दाखिला लिया था। उन्होंने दिल्ली के साकेत स्थित एमिटी इंटरनेशनल स्कूल और यूसुफ सराय के डीएवी मॉडल स्कूल से पढ़ाई की थी। वह बहुत ही कुशाग्र बुद्धि की थी।

कांगड़ा में मिग-21 विमान दुर्घटनाग्रस्त, दिल्ली निवासी स्क्वाड्रन लीडर मीत सिंह की गई जान

हिमाचल  प्रदेश के कांगड़ा जिले के झुलाड़ गांव में बुधवार दोपहर करीब 12.35 बजे वायुसेना का मिग-21 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे में दिल्ली निवासी स्क्वाड्रन लीडर मीत सिंह की जान चली गई। वह आठ साल से वायुसेना में सेवाए दे रहे थे। पांच साल पहले उनकी शादी हुई थी। उनकी चार साल की बेटी भी है। जिस जगह पर विमान का मलबा गिरा है, वहां 20 फीट गहरा गड्ढा हो गया है। आधा किलोमीटर क्षेत्र तक विमान का मलबा और पायलट के शरीर के अवशेष मिले हैं। हादसे की सूचना मिलने पर जवाली थाने के प्रभारी नीरज राणा, अग्निशमन विभाग की गाड़ियां व 108 एंबुलेंस मौके पर पहुंची।

वायुसेना को हादसे की सूचना करीब 1.40 बजे मिली। दोपहर बाद करीब दो बजे वायुसेना के दो हेलीकॉप्टर जेडबी-1445 व जेड- 3152 घटनास्थल पर उतरे। हेलीकॉप्टरों में आए विंग कमांडर गोविल, सार्जेंट एपी सिंह व जूनियर वारंट ऑफिसर भागीरथ ने दुर्घटनास्थल का निरीक्षण किया। मिग-21 में सिर्फ स्क्वाड्रन लीडर मीत सिंह ही थे। यह विमान पंजाब के पठानकोट एयरबेस से दोपहर 12.10 बजे रुटीन  उड़ान पर था। हादसे के कारणों का पता नहीं चल सका है और जांच के लिए

वायुसेना ने कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दिए हैं। प्रत्यक्षदर्शियों अजय व सुधीर ने बताया कि जब विमान गुजरा तो वह महज 200 मीटर की ऊंचाई पर था और इसमें आग लगी हुई थी और इधर-उधर चक्कर काट रहा था। पायलट ने लोगों की जान बचाने के लिए अपनों प्राणों की बलि दे दी। जहां विमान गिरा है, उसके आसपास के क्षेत्रों में हजारों की आबादी है। इस घटना की सूचना मिलने पर डीसी (उपायुक्त), कांगड़ा संदीप कुमार व एसपी संतोष पटियाल भी मौके पर पहुंचे। एसपी ने मिग-21 के दुर्घटनाग्रस्त होने व पायलट की मौत की पुष्टि की है। हादसे के बाद क्षेत्र में थोड़ी देर के लिए अफरातफरी मच गई।

रक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने मिग हादसे में स्क्वाड्रन लीडर मीत सिंह के निधन पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने मीत के परिवार से संवेदना जताई है। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी शोक जताया है।

तीन साल में 25 विमान हादसे

रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे ने लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि 2015-16 से अब तक वायुसेना के 25 विमान हादसे हो चुके हैं। इसमें 39 लोगों की मौत हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

दिल्ली सीलिंग मामले में SC हुआ सख्त, मनोज तिवारी को जारी किया अवमानना नोटिस

नई दिल्ली। दिल्ली के गोकलपुर में सीलिंग तोड़ने के मामले