पाकिस्तान की तरफ से लगातार गोलाबारी में बीएसएफ का जवान घायल, कई सीमा चौकियां क्षतिग्रस्त

- in राष्ट्रीय

पाकिस्तान द्वारा लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन जारी है. एक तरफ तो भारत सरकार ने रमजान के पाक महीने में एलओसी पर संघर्ष विराम की घोषणा की है. वहीं दूसरी तरफ पकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा. बुधवार को रात भर पाकिस्तानी रेंजर्स ने भारतीय चौकियों और रिहायशी इलाकों में जमकर गोलाबारी की. पाकिस्तान की इस बेहूदा हरकत से कई भारतीय चौकियां क्षतिग्रस्त हो गईं और बीएसएफ का एक जवान भी जख्मी हो गया. हालांकि पाक की इस हरकत का बीएसएफ ने मुहतोड़ जवाब दिया है.

कठुआ और सांबा जिलों में एलओसी पर रात भर चला संघर्ष

जम्मू – कश्मीर के सांबा और कठुआ जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा के निकट पाकिस्तानी रेंजर्स ने रातभर गोलाबारी की और मोर्टार दागे जिसमें 15 भारतीय सीमा चौकियों और कुछ रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया गया. पाकिस्तान की इस कार्रवाई में बीएसएफ का एक जवान घायल हो गया. बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया को बताया कि सीमा पर तैनात बीएसएफ के जवानों ने पाक को मुंहतोड़ जवाब देते हुए जवाबी गोलीबारी की. सूत्रों के मुताबिक अंतिम रिपोर्ट मिलने तक दोनों तरफ से गोलीबारी जारी थी.

PM मोदी भाजपा की संयुक्त कार्यसमिति को आज करेंगे संबोधित, ये दिग्गज भी रहेंगे मौजूद

घुसपैठियों को मदद देने हेतु पाकिस्तानी गोलाबारी

बीएसएफ के अधिकारी के मुताबिक बुधवार देर रात से पाकिस्तानी रेंजर्स ने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया. सांबा तथा कठुआ जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा के समीप 10 से 15 सीमा चौकियों पर भारी गोलीबारी की और मोर्टार दागे. उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी गोलाबारी में घायल जवान को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. सांबा सेक्टर में मंगलवार को भी पाकिस्तानी जवानों ने संघर्ष विराम का उल्लंघन कर सीमा चौकियों पर गोलीबारी की थी. जिसका उद्देश्य सीमापार से घुसपैठ में मदद देना था. पकिस्तान की उस गोलीबारी में भी बीएसएफ का 28 वर्षीय एक जवान शहीद हो गया था. बीएसएफ के मुताबिक उन्होंने रविवार से अब तक पाकिस्तान घुसपैठ के चार प्रयासों को विफल कर दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बलात्कार मामलों में अब होगी त्वरित कार्रवाई, पुलिस को मिलेगी यह विशेष किट

देश में पुलिस थानों को बलात्कार के मामलों की जांच