एक ऐसा अनोखा घड़ा जिसमें समा जाता है लाखों लीटर पानी, फिर भी नहीं भरता…

एक ऐसा अनोखा घड़ा जिसमें समा जाता है लाखों लीटर पानी, फिर भी नहीं भरता...

राजस्थान के जिले पाली में शीतला माता का मंदिर स्थित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इसकी खास बात यह है कि मां की प्रतिमा के साथ एक घड़ा है जोकि आधा फीट गहरा और आधा फीट चौड़ा नीचे ज़मीन में गढ़ा हुआ है। हैरानी की बात यह है कि इसमें जितना भी पानी डाल दिया जाए, यह कभी नहीं भरता है।

लोगों का कहना है कि इसमें लगभग 50 लाख लीटर पानी डाला जा चुका है, लेकिन यह खाली का खाली है। शीतला अष्टमी और ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि को साल में 2 बार ही इस घड़े का मुंह खोला जाता है। उस समय श्रद्धालुओं का यहां तांता लगा होता है।  लोग यहां घड़े में पानी भरने के लिए आते हैं। इन्हीं दिनों मंदिर परिसर में मेला भी लगता है। बहुत से लोग इस चमत्कार को देखने के लिए आते हैं। माना जाता है कि यह मंदिर बहुत पुराना है और ये प्रथा सदियों से चली आ रही हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि करीब 800 साल पहले बाबरा नाम के राक्षस ने गांव में आतंक मचा रखा था।

तब सब ने मिलकर माता शीतला का ध्यान किया और मां ने भक्तों की पुकार सुनकर उस दुष्ट का संहार किया। राक्षस ने अंतिम इच्छा माता के समक्ष रखी कि मेरी आत्मा की तृप्ति के लिए मुझे पानी पिलाया जाए। मां ने तथास्तु कहकर उसकी इच्छा पूर्ण कर दी। तब से घड़े की स्थापना कर साल में दो बार पानी डालने की प्रथा चल रही हैं। कहा जाता है कि सैकड़ों बार पानी से भरने पर भी वह घड़ा खाली रहता है। लेकिन हर बार पानी डालने के बाद वहां के पंडित एक कलश दूध उसमें डालते हैं तो वह तूरंत भर जाता है। इसके पश्चात घड़े का मुंह बंद कर दिया जाता हैं। 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *