दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस नेताओं ने निकाला साइकिल मार्च

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस ने मंगलवार शाम को साइकिल मार्च का आयोजन किया। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन के नेतृत्व में नेताओं व कार्यकर्ताओं ने मान सिंह रोड से इंडिया गेट सर्किल तक साइकिल चलाकर अपना विरोध जताया।दिल्ली में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस नेताओं ने निकाला साइकिल मार्च

साइकिल मार्च में अजय माकन के साथ पूर्व मंत्री अरविंदर सिंह लवली, हारुन यूसुफ, डॉ. नरेंद्र नाथ, वरिष्ठ नेता नसीब सिंह, मनीष चतरथ, पूर्व विधायक कुंवर करण सिंह, दक्षिणी निगम में कांग्रेस के नेता मुकेश गोयल व चतर सिंह शामिल थे। अजय माकन ने कहा कि जब से केंद्र में मोदी सरकार आई है, देश में पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। इससे न सिर्फ मध्यम व निम्न आय वर्ग प्रभावित है, बल्कि आवश्यक वस्तुओं के दामों में भी बेतहाशा वृद्धि हो रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में 23 मई 2013 को दिल्ली में जहां पेट्रोल के दाम 63.09 रुपये प्रति लीटर तथा डीजल के दाम 49.69 रुपये प्रति लीटर थे, वहीं 21 मई 2018 को दिल्ली में पेट्रोल के दाम बढ़कर 76.57 रुपये प्रति लीटर तथा डीजल के दाम 67.82 रुपये प्रति लीटर पहुंच गए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर 11 बार उत्पाद शुल्क बढ़ाया है। दूसरी ओर दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर तीन बार वैट की दरें बढ़ाई हैं। इस कारण भी पेट्रोल और डीजल महंगा हुआ है।

वहीं, पेट्रोल व डीजल की खुदरा कीमतों में हो रही लगातार वृद्धि से बढ़ रहे जनाक्रोश और विपक्ष की तरफ से इस मुद्दे को लगातार हवा देने से सरकार की चिंता बढ़ गई है। केंद्र सरकार के भीतर आम जनता को इस बारे में कुछ राहत देने की तमाम तरह की चर्चाएं चल रही हैं। इसके लिए वित्त मंत्रालय और पेट्रोलियम मंत्रालय के बीच विमर्श शुरु हो गया है। कोशिश इस बात की है कि आम जनता पर पड़ने वाले बोझ का कुछ हिस्सा केंद्र, राज्य और तेल कंपनियां उठायें। अगले एक-दो दिनों के भीतर इसका ऐलान किया जाएगा।

पेट्रोल व डीजल की महंगाई को लेकर सरकार के स्तर पर हो रहे विचार विमर्श की जानकारी स्वयं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दी। अमित शाह ने बताया कि बुधवार को पूरी स्थिति पर चर्चा होगी और दो-तीन दिनों के भीतर जनता को राहत देने की घोषणा की जाएगी। वैसे मंगलवार को भी पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने सरकारी तेल कंपनियों के आला अधिकारियों के साथ पूरे मद्दे पर विचार विमर्श किया है, ताकि पेट्रोल व डीजल की कीमतों में रोजाना हो रही है बढ़ोतरी की रफ्तार कुछ थामी जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पेट्रोल की बढ़ी कीमतों को लेकर पैदल मार्च कर रहे कांग्रेसी आपस में भिड़े

कानपुर : डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस की