दिल्ली में पूरी कांग्रेस पार्टी को चिदंबरम से लगा बड़ा झटका, मची पार्टी में खलबली

नई दिल्ली। कांग्रेस के कद्दावर नेता और वकील पी चिदंबरम द्वारा सुप्रीम कोर्ट में आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार की पैरवी किए जाने से प्रदेश कांग्रेस धर्मसंकट में फंस गई है। वहीं, फैसले के 24 घंटे के भीतर बृहस्पतिवार शाम को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चिदंबरम से मुलाकात के भी सियासी अर्थ निकाले जा रहे हैं। इतना ही नहीं, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन भी इस प्रकरण में स्वयं को दबाव में महसूस कर रहे हैं।दिल्ली में पूरी कांग्रेस सरकार को चिदंबरम से लगा बड़ा झटका, मची पार्टी में खलबलीदिल्ली में पूरी कांग्रेस सरकार को चिदंबरम से लगा बड़ा झटका, मची पार्टी में खलबली

यहां पर बता दें कि करीब दो महीने पहले दिल्ली प्रदेश कांग्रेस में तब खलबली मच गई थी जब 2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच दिल्ली की सातों सीटों को लेकर गठबंधन की चर्चा को हवा मिली थी। हालांकि प्रदेश कांग्रेस ने हर स्तर पर इस चर्चा को सिरे से नकारा था।

रणदीप सुरजेवाला के ट्वीट कुछ अलग ही भाषा बोल रहे थे

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दो बार किए गए ट्वीट और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के बयान को भी प्रदेश कांग्रेस को समर्थन देने वाला ही माना गया। बावजूद इसके दिल्ली में कांग्रेस की प्रतिद्वंदी आम आदमी पार्टी की सरकार को सुप्रीम कोर्ट से कानूनी मजबूती दिलाने में चिदंबरम ने जो महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उससे फिर गफलत पैदा हो गई है।

कांग्रेस को लगा झटका

उधर, अपने दम पर दिल्ली में लगातार खड़े होने का प्रयास कर रही प्रदेश कांग्रेस को चिदंबरम की इस कोशिश से झटका लगा है। एक वकील के तौर पर भी चिदंबरम को आप सरकार का साथ देने की बात तर्कसंगत नहीं मानी जा रही है। यहां यह भी महत्वपूर्ण है कि माकन कहते रहे हैं कि कांग्रेस को सबसे ज्यादा नुकसान आम आदमी पार्टी ने पहुंचाया है।

दिल्ली में दिखाई देगा पोस्टर- केजरीवाल और भाजपा का सच, जानना आपका हक

बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और उनकी सरकार में मंत्री रहे अन्य नेता भी कई बार केजरीवाल पर निशाना साध चुके हैं। प्रदेश कांग्रेस आप सरकार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए है। जल्द ही एक इश्तिहार भी जारी करने की तैयारी है- ‘केजरीवाल और भाजपा का सच, जानना आपका हक।’ ऐसे माहौल में चिदंबरम द्वारा आप सरकार की मदद करना प्रदेश कांग्रेस में गुस्से का पर्याय भी बन रहा है।

अजय माकन नाखुश हैं ‘अपने नेता’ से

वहीं, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने इस पूरे प्रकरण पर कहा कि पी चिदंबरम ने आम आदमी पार्टी सरकार की सुप्रीम कोर्ट में जो मदद की है, वह एक वकील के तौर पर की है। हालांकि इससे भी बचा जाना चाहिए था। बावजूद इसके कांग्रेस और आप के बीच किसी तरह के मौजूदा और भावी संबंधों को लेकर कोई मायने नहीं निकाले जाने चाहिए। स्वयं राहुल गांधी भी हाल ही में दो बार ट्वीट करके AAP सरकार को कठघरे में खड़ा कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या मामले में इसी हफ्ते आ सकता है ये बड़ा फैसला

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले से जुड़े एक अहम केस में