‘कांग्रेस के डेटा चोरी के आरोपों के बाद 2 लाख बार डाउनलोड किया गया नमो एप’

- in राष्ट्रीय

बीजेपी के सूत्रों ने दावा किया है कि नमो एप से डाटा चोरी होने के कांग्रेस के आरोपों के बाद कम से कम दो लाख बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नमो एप डाउनलोड किया गया है. पार्टी सूत्रों ने यहां कहा कि जब कांग्रेस पार्टी ने सोशल मीडिया में #डिलीटनमोएप कैंपेन शुरू किया था तब उन्हें यह अंदाजा भी नहीं होगा कि इसका परिणाम इतना अलग निकलेगा.

 

पार्टी से जुटे एक सूत्र ने बताया, ‘‘जब से कांग्रेस का नमो एप के खिलाफ कैंपेन शुरू हुआ तब से दो लाख नए डाउनलोड हुए हैं. डाउनलोड में तेजी तब आई जब कांग्रेस और राहुल गांधी ने इस पर हमले शुरू किए.’’ उन्होंने कहा कि मोदी ने हाल ही में सांसदों के साथ बैठक में लोगों से एप के जरिए जुडने की जरूरत पर जोर दिया था.

CBSE पेपर लीक: तनाव में 28 लाख छात्र, कई शहरों में छलका इनका दर्द

क्या है मामला?

 

दरअसल फ्रांस के एक हैकर एलियट एल्डरसन ने दावा किया कि नरेंद्र मोदी एप डाउनलोड करने वाले लोगों की व्यक्तिगत जानकारी तीसरी पार्टी के साथ साझा की गई है. इलियट एल्डरसन ने ट्विटर पर लिखा कि जब कोई यूजर नरेंद्र मोदी एप पर प्रोफाइल बनाता है, तब उसकी डिवाइस की जानकारी के साथ उसकी निजी जानकारी एक थर्ड पार्टी डोमेन in.wzrkt.com के साथ शेयर की जाती है. यह कंपनी एक अमेरिकी कंपनी क्लेवर टैप से जुड़ी हुई है.

 

आपको बता दें कि हाल ही में कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा फेसबुक से निजी जानकारी चुरा लेने का मामला सामने आया था. इसके बाद से लगातार फेसबुक पर सवाल उठ रहे हैं कि क्या हमारा और आपका डेटा फेसबुक पर सुरक्षित है? फेसबुक ने भी अपनी गलती मान ली है. वहीं केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर 2019 में अपना चुनाव अभियान चलाने के लिए राजनीतिक डेटा विश्लेषक फर्म कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ काम करने का आरोप लगाया है.

 

इसके बाद से कांग्रेस लगातार बीजेपी पर हमलावर है. कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी लंबे समय से कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ काम कर रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले दिनों कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद पर हमला बोलते हुए कहा था, कानून मंत्री झूठी खबरें फैलाने में मग्न हैं.

 

You may also like

बलात्कार मामलों में अब होगी त्वरित कार्रवाई, पुलिस को मिलेगी यह विशेष किट

देश में पुलिस थानों को बलात्कार के मामलों की जांच