सीएम योगी ने संतों से कहा, काशी को पर्यटन नहीं, तीर्थ स्थल के तौर पर करेंगे विकसित

- in उत्तरप्रदेश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार की शाम को वाराणसी पहुंच गए और सर्किट हाउस में विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना पर संत समाज के साथ लंबी बात की।सीएम योगी ने संतों से कहा, काशी को पर्यटन नहीं, तीर्थ स्थल के तौर पर करेंगे विकसित

 

सर्किट हाउस में बंद कमरे में चली करीब एक घंटे से लंबी बैठक में संत समाज के लोगों ने विश्वनाथ कॉरिडोर के ब्लू प्रिंट को सार्वजनिक करने और धरोहरों के संरक्षण की मांग की। मुख्यमंत्री से उन्हें आश्वस्त किया कि काशी विश्वनाथ मंदिर क्षेत्र का विकास सबकी भावनाओं को ख्याल में रखकर किया जाएगा।

एक सप्ताह पहले हुए फ्लाईओवर हादसे के बाद दूसरी बार वाराणसी पहुंचे मुख्यमंत्री का विमान शाम 6.45 बजे बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचा। एप्रन से चलकर टर्मिनल के वीआईपी लाउंज में स्थानीय भाजपा नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों ने उनका स्वागत किया।

मुख्यमंत्री ने फ्लाईओवर हादसे की विस्तृत जानकारी कार्यकर्ताओं और प्रशासनिक अधिकारियों से ली। इसके बाद सर्किट हाउस पहुंचे मुख्यमंत्री ने बनारस के संत समाज के लोगों से विश्वनाथ कॉरिडोर परियोजना पर बैठक की। 

पुराने मकानों को संरक्षित करने की जरूरत

बैठक में संत समाज के लोगों ने मांग कि वाराणसी पर्यटन स्थल नहीं, बल्कि तीर्थ स्थल है तो इसका विकास इसे ध्यान में रखकर किया जाए। यहां की गलियों में ही बनारस बसता है, विकास के नाम पर इन धरोहरों को नष्ट नहीं किया जाए।

संत समाज के लोगों ने मुख्यमंत्री को बताया कि 200-300 वर्ष पुराने मकानों को प्रशासन ध्वस्त कर रहा है, जबकि इसे संरक्षित करने की जरूरत है। विकास के कार्य में गरीब तबके का खास ध्यान रखा जाए। न्यास परिषद के अधिकारियों की कार्यशैली पर संत समाज ने आपत्ति जताई।

मुख्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि सभी को विश्वास में लेकर और हितों का ध्यान में रखते हुए विकास के कार्य होंगे। मुख्यमंत्री देर रात शहर में निर्माणाधीन परियोजनाओं का निरीक्षण करेंगे। इसे लेकर पूरे शहर में पुलिस और प्रशासन की अधिकारियों को मुस्तैद किया गया है। 

 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

वाराणसी में ‘पूर्वाचल’ राज्य की मांग कर रही महिला ने बस में लगाई आग

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ‘पूर्वाचल’ राज्य की मांग को लेकर