CM अशोक गहलोत ने कहा- भाजपा ने देश को बांटने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए ईजाद किया लव जिहाद शब्द…

CM अशोक गहलोत ने कहा- भाजपा ने देश को बांटने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए ईजाद किया लव जिहाद शब्द...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने लव जिहाद को भाजपा द्वारा निर्मित शब्द करार दिया। गहलोत ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि लव जिहाद भाजपा द्वारा राष्ट्र को विभाजित करने और सांप्रदायिक,सद्भावना को बिगाड़ने के लिए निर्मित शब्द है। उन्होंने कहा कि विवाह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है। इस पर अंकुश लगाने के लिए एक कानून लाना पूरी तरह से असंवैधानिक है। यह कानून किसी भी अदातल में खड़ा नहीं होगा। लव में जिहाद का कोई स्थान नहीं होता। गहलोत ने कहा कि वे राष्ट्र में एक ऐसा वातावरण बना रहे हैं, जहां वयस्क राज्य की शक्ति की दया पर अपनी सहमति देंगे। विवाह एक व्यक्तिगत निर्णय है और वे उस पर अंकुश लगा रहे हैं।

सीएम ने लव जिहाद बिल को लेकर ट्वीट करते हुए कहा कि भाजपा ने देश को बांटने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए लव जिहाद शब्द ईजाद किया है। शादी व्यक्तिगत आजादी का मामला है। शादी को रोकने के लिए लाया जाने वाला कोई भी कानून पूर्णतया असंवैधानिक है। गहलोत ने एक के बाद एक लगातार तीन ट्वीट कर कहा कि यह किसी अदालत में नहीं टिकेगा। प्यार में जिहाद का कोई स्थान नहीं है। वे देश में ऐसा माहौल बना रहे हैं, जहां वयस्क लोगों की सहमति राज्य की दया पर निर्भर हो जाएगी। शादी निजी फैसला है और वे इसमें रुकावट डाल रहे हैं। यह व्यक्तिगत आजादी को छीनने जैसा है। यह सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने की चाल और सामाजिक टकराव को बढ़ाने वाला कदम है। इसके साथ ही संविधान के उस प्रावधान का अनादर है, जिसमें राज्य किसी नागरिक के साथ किसी भी धरातल पर किसी तरह का भेदभाव नहीं कर सकता।

मध्य प्रदेश में हो रहा लव जिहाद का विरोध 

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश सरकार की ओर से लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की घोषणा होने के साथ ही वहां इसका विरोध शुरू हो गया है। जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने इसका विरोध करते हुए शिवराज सरकार से मांग की है कि वह इस तरह का विधेयक नहीं लाए। जमीयत का कहना है कि पहले से ही इस तरह के कानून हैं। ऐसे में और कोई प्रॉपेगंडा कर किसी समुदाय विशेष को बदनाम करने का काम ना करें। यूपी सरकार ने भी इसी तरह का कानून बनाने की बात कही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button