नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी अदालत (SC) के चार जज बीते दिन देश के सबसे बड़े जज की शिकायत करने के लिए मीडिया के सामने आए. चारों जजों ने सुप्रीम कोर्ट में प्रशासनिक अनियमितताओं का आरोप लगाया. जिसके बाद देश के अंदर बड़ा भूचाल आ गया. सुप्रीम कोर्ट के चार सीनियर जजों की प्रेस कांफ्रेस के बाद उठा तूफान आज थम सकता है.

सुप्रीम कोर्ट के जजों से आज बात कर सकते हैं CJI, क्या खत्म होगा ये विवाद?

सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों के चीफ जस्टिस के साथ मतभेद के सामने आने के बाद चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा आज वरिष्ठ जजों से बात कर सकते हैं. इस संबंध में बार एसोसिएशन ने आज शाम चार बजे बैठक बुलाई है. वहीं अटॉर्नी जनरल ने उम्मीद जताई है कि आज विवाद सुलझ सकता है.

ऐसा माना जा रहा है कि सरकार केके वेणुगोपाल हल निकालने का काम कर रहे हैं. इस पूरे विवाद पर सीजेआई दीपक मिश्रा की कोई भी प्रतिक्रिया अब तक सामने नहीं आई है. अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने शुक्रवार को जजों की प्रेस कांफ्रेन्स के बाद सीजेआई दीपक मिश्रा से भी मुलाकात की है.

वहीं केन्द्र सरकार की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. सरकार के सूत्रों के मुताबिक सरकार ने इस मामले में विवाद से दूरी बनाकर रखी है. सरकार का मानना है कि लोकतंत्र के अनिवार्य स्तम्भ सुप्रीम कोर्ट का यह अंदरुनी मामला है और वो इस मामले में आपस में बैठकर किसी सहमत राय पर सहमत हो जाएंगे. सरकार ने अपनी ये सोच सीजेआई दीपक मिश्रा को अवगत करा दिया है.

आपको बता दें कि शुक्रवार सुबह देश में पहली बार न्यायपालिका में असाधारण स्थिति देखी गई. सुप्रीम कोर्ट के चार सबसे सीनियर जस्टिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके देश को बताया है कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है और अनियमितताओं को लेकर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के सामने अपनी बात रखी, लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरीके से काम नहीं कर रहा है, अगर ऐसा चलता रहा तो लोकतांत्रिक परिस्थिति ठीक नहीं रहेगी.