CIC ने विदेश मंत्रालय को दिए निर्देश, बाताये पीएम मोदी के विदेशी दौरों पर कितना हुआ खर्च

केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने विदेश मंत्रालय को निर्देश दिए हैं कि वह बताए कि साल 2013-17 के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा विदेश यात्राओं के दौरान इस्तेमाल किए गए एयर इंडिया के चार्टर्ड प्लेन पर आए खर्च से जुड़े दस्तावेजों को सार्वजनिक करे। मुख्य सूचना आयुक्त आरके माथुर ने मंत्रालय की इस दलील को खारिज कर दिया क्योंकि पीएम की विदेश यात्रा के लिए भारतीय वायुसेना और एयर इंडिया द्वारा दिए गए बिल की रकम, संदर्भ संख्या और बिल की तारीख से जुड़े विवरण से संबधित दस्तावेज एक स्थान पर संकलित नहीं हैं।

CIC ने विदेश मंत्रालय को दिए निर्देश, बाताये पीएम मोदी के विदेशी दौरों पर कितना हुआ खर्च 

मंत्रालय का कहना है कि आवेदक द्वारा मांगी गई जानकारी को एक जगह पर इकट्ठा करने के लिए बहुत से कर्मचारियों को लगाना पड़ेगा। अपने आदेश में माथुर ने कहा कि बकाया राशि का भुगतान करने के लिए अंततः इन बिलों और चालानों को संगठित करना होगा जोकि तर्कसंगत नहीं है। यह मामला कॉमोडोर लोकेश बत्रा (रिटायर्ड) से जुड़ा है। उन्होंने अपील दायर कर पीएम की साल 2013-17 में की गई विदेश यात्रा से संबंधित बिल, चालान और अन्य रिकॉर्ड मांगे हैं।

सुनवाई के दौरान बत्रा ने कहा कि मंत्रालय द्वारा हमें अधूरी जानकारी प्रदान की गई जिसकी वजह से उन्होंने केंद्रीय सूचना आयोग से संपर्क किया। उन्होंने कहा कि वह चाहते थे कि जनता को इस बारे में सूचित किया जाए कि यह बिल और देय रकम अदायगी के लिए किस सार्वजनिक प्राधिकार के पास लंबित हैं। बत्रा ने कहा कि इन रिकॉर्ड को राष्ट्रीय सुरक्षा की आड़ में दबाया नहीं जा सकता। धन की कमी से जूझ रहे एयर इंडिया के 119 करोड़ रुपये के लंबित बिलों को पीएमओ ने जनवरी 2017 में चुका दिया था। यह सभी बिल मोदी के कुछ विदेशी दौरों से संबंधित थे।

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ